Focusonlearn

PHD क्या है कैसे करे – फीस, योग्यता, एंट्रेंस एग्जाम: पूरी जानकारी देखे

शिक्षा के क्षेत्र में महानता हासिल करना अपने आप में एक अनोखा काबिलियत है, PhD एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा शिक्षण शैली में महानता प्राप्त करने का अवसर मिलता है. शिक्षा के महान दर्शनिक को PHD कि डिग्री से नवाजा जाता है.

यह उपाधि ऐसे उम्मीदवार को दी जाती है जिसमें विशेष गुण निहित होता है. इस डिग्री को प्राप्त करने के कई अवसर मिलते हैं,  कभी-कभी महान उद्देश्य को पूरा करने के बाद इस डिग्री से उम्मीदवार को नवाजा जाता है और कोर्स के माध्यम से भी किसी विशेष क्षेत्र में PhD की डिग्री प्राप्त किया जा सकता है.

करियर के दृष्टिकोण से PhD सबसे महत्वपूर्ण कोर्स माना जाता है क्योंकि इस उपाधि से सम्मानित उम्मीदवार किसी विशेष विषय में विशेषज्ञता हासिल किए होते हैं इसलिए किसी विशेष बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करना उनकी प्राथमिकता होती है.

Table of Contents

PHD क्या है पूरी जानकारी

पीएचडी एक स्नातकोत्तर (Postgraduate) डॉक्टरेट (Doctoral) की डिग्री है, जो उन छात्रों को प्रदान की जाती है जो अपने विषय में ज्ञान के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान देने वाले एक प्रमुख शोध को पूरा करने की पुर्णतः कोशिश करते है.

पीएचडी की डिग्री सभी विषयों में उपलब्ध हैं और आम तौर पर एक व्यक्ति को प्राप्त होने वाली सर्वोच्च शैक्षणिक डिग्री का उच्चतम स्तर है.  PhD कोर्स आमतौर पर तीन साल की अवधि का होता है जो उम्मीदवारों को अधिकतम पांच से छह वर्ष के अंतराल में कोर्स पूरा करना होता है.

  • BCA क्या है और कैसे करे
  • MBA कोर्स से सम्बंधित पूरी जानकारी

हालांकि, Ph.D कोर्स की अवधि एक संस्थान से दूसरे में भिन्न हो सकती है जो पूरी तरह इंस्टीट्यूट के सिलेबस और प्राथमिकता पर निर्भर करता है.

PHD डिग्री मुख्यतः उन लोगों के लिए है जो अपने विशेषज्ञता को और अधिक बढ़ाना चाहते हैं एवं समाज को शिक्षा के क्षेत्र में जागरूक बनाना चाहते हैं. 

डॉक्टरेट एक विशेष योग्यता है जो डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित करता है. यह उपाधि प्राप्त करने के लिए आपको उन्नत कार्य करने की आवश्यकता होती है जो आपके चुने हुए विशेष क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण योगदान देता है. संभवतः ऐसा करने से आपको ‘डॉक्टर’ की उपाधि से सम्मानित किया जाता है

Doctor of Philosophy Course Highlights

Ph.d. किसे करना चाहिए.

  • अपने विषय/वस्तु में रिसर्च करने की आदि व्यक्ति
  • अपने रिजल्ट एकत्र करने में माहिर व्यक्ति
  • थीसिस लिखने और रिसर्च करने वाला 
  • प्रोफेसर बनाने के इच्छुक व्यक्ति  

Ph.D के लिए योग्यता

उम्मीदवारों को पीएचडी करने के योग्य होने के लिए किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन डिग्री के साथ-साथ मास्टर डिग्री की भी आवश्यकता होती है. 

पीएचडी के लिए उम्मीदवारों को एक विषय में गहन अध्ययन के साथ-साथ Smart Study करने की आवश्यकता होती है, इसलिए उम्मीदवारों को पीएचडी का पढ़ाई करते समय बेहद कठिन परिश्रम करने के साथ-साथ आवश्यक कौशल और समर्पण की आवश्यकता होती है.

  • 12th और ग्रेजुएशन अनिवार्य
  • पोस्टग्रेजुएट यानि मास्टर डिग्री 55% के साथ अनिवार्य
  • अच्छी लेखन क्षमता
  • रिसर्च में इक्छुक व्यक्ति
  • अंग्रेजी स्किल
  • हार्ड वोर्किंग

आवश्यक स्किल्स:

  • Inquisitive
  • Good at research
  • Hard-working
  • Good writing capacity
  • Self-motivated
  • Keen observer

Ph.D का फुल फॉर्म

पीएचडी एक लैटिन शब्द है जिस का संक्षिप्त रूप पीएचडी होता है एवं अंग्रेजी में फुल फॉर्म (डॉक्टर आफ फिलासफी) “Doctor of Philosophy” होता है जो “ दर्शन शब्द ” अपने मूल ग्रीक अर्थ को दर्शाता है

Ph.D में एडमिशन प्रक्रिया 

उम्मीदवार Ph.D कोर्स करने के लिए तभी योग्य होते है यदि उन्होंने अपनी मास्टर डिग्री एक समान कोर्स / क्षेत्र / स्ट्रीम में पूरी की है जिसमें वे पीएचडी करना चाहते हैं

कुछ कॉलेज यह भी निर्देश करते हैं कि उम्मीदवारों को उनके द्वारा पेशकश की गई पीएचडी कोर्स को आगे बढ़ाने के लिए एक एमफिल (MPhil) पूरा करना होगा. 

जिन उम्मीदवारों ने UGC NET, GATE, JEST की प्रवेश परीक्षा को क्लियर किए है, उन्हें आमतौर पर पीएचडी कोर्स करने के दौरान फ़ेलोशिप की पेशकश की जाती है.  इसके अलावा, इग्नू और दिल्ली विश्वविद्यालय जैसे विश्वविद्यालय भी अपने साथ पीएचडी पाठ्यक्रम करने वाले छात्रों को फेलोशिप प्रदान करते हैं. 

महत्वपूर्ण Ph.D की एंट्रेंस एग्जाम 

  • UGC Net Exam
  • CSIR-UGC NET exam
  • JNU PhD Entrance
  • NIPER PhD Entrance Exam
  • AIIMS PhD Entrance Exam

Ph.D कोर्स फ़ीस

पीएचडी कोर्स की फीस इंस्टिट्यूट एवं संस्थान के अनुरूप अलग अलग होता है,  सरकारी संस्थान की फ़ीस प्राइवेट इंस्टिट्यूट की तुलना में कम होता है. पीएचडी कोर्स मुख्यतः 3 वर्ष का होता है जो  6 सेमेस्टर में बता हुआ होता है. 

 कॉलेज, इंस्टीट्यूट इस कोर्स की फीस समेस्टर या  वार्षिक अवधी का अनुशार मांग करते हैं. प्राइवेट इंस्टिट्यूट में पीएचडी कोर्स की  न्यूनतम फ़ीस 20000 से 30000 के करीब तथा अधिकतम फ़ीस 30000 से 50000 के बीच होता है.

जबकी सरकारी संस्थान में न्यूनतम फ़ीस 15000 से 25000 के बीच तथा अधिकतम फ़ीस 40000 तक होता है.

अवश्य पढ़े, B.Ed कैसे करे योग्यता एवं करियर

Ph.D सुब्जेस्ट्स

पीएचडी की डिग्री निम्नलिखित विषय में हासिल किया जा सकता है वर्तमान समय में नीचे दिए गए विषय सर्वाधिक महत्वपूर्ण है, लोकप्रियता की वजह से ही नहीं बल्कि समाज कल्याण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.  इसलिए निम्न विषय में पीएचडी की डिग्री प्राप्त करने की अवसर आसानी पा सकते हैं.

  • Ph.D. in English
  • Ph.D. in Social Sciences
  • Ph.D. in Public and Economic Policy
  • Ph.D in Humanities & Social Sciences
  • Ph.D in Humanities and Life Sciences
  • Ph.D in Psychology
  • Ph.D in Arts
  • Ph.D in International Relations and Politics
  • Ph.D in Physiology
  • Ph.D in Public Policy
  • Ph.D in Literature
  • Ph.D in Chemistry
  • Ph.D in Clinical Research
  • Ph.D in Science
  • PhD in Bioscience
  • PhD in Bioinformatics
  • PhD Biotechnology
  • PhD in Mathematical and Computational Sciences
  • PhD in Environmental Science and Engineering
  • PhD in Applied Chemistry & Polymer Technology
  • PhD in Applied Sciences
  • PhD Zoology
  • PhD in Physics
  • PhD in Basic and Applied Sciences
  • Phd in Mathematics
  • PhD in Zoology
  • PhD in Commerce Management
  • PhD in Accounting and Financial Management

सामान्य प्रश्न: FAQs

पीएचडी एक  स्नातकोत्तर डॉक्टरेट डिग्री है, इस डिग्री को वैसे स्टूडेंट को प्रदान किया जाता है, जो किसी एक सब्जेक्ट में अध्ययन करते है. इस कोर्स को करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना पड़ता है, उसके बाद किसी अच्छे कॉलेज में एडमिशन में सकता है.

पीएचडी में बहुत सारे विषय होते है, क्योंकि इस कोर्स में किसी एक विषय पर अध्ययन किया जाता है. अर्थात, आप किसी भी एक सब्जेक्ट के साथ पीएचडी कर सकते है.

सरकारी कॉलेजों में पीएचडी की फीस लगभग 15-20 या 30 हज़ार रुपए तक होता है. जबकि प्राइवेट कॉलेजों में पीएचडी की फीस 5 – 6 लाख रुपए तक हो सकता है.

1 thought on “PHD क्या है कैसे करे – फीस, योग्यता, एंट्रेंस एग्जाम: पूरी जानकारी देखे”

Thanks you.

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

पीएचडी (PhD) क्या हैं और कैसे करें?

अपने जीवन में सफ़ल होना हर किसी का सपना होता है। हर कोई यही चाहता है कि उसे एक अच्छी और ईमानदारी वाली जॉब मिले। इसके लिए आपको अच्छे से अच्छे कोर्स करने होते हैं। इन्हीं कोर्स में एक कोर्स है पीएचडी कोर्स। आज हम यहां पर पीएचडी क्या है (PhD Kya Hai) इसके बारे में पूरी तरह से बताने जा रहे हैं।

यदि आप कोई भी कोर्स करते हैं तो आपको उसके बारे में पूरी तरह से जानकारी होनी बहुत ही आवश्यक है। ये कोर्स क्या है? इसे करने से क्या फायदा होगा, इसे किस प्रकार किया जाता है और इसकी फीस क्या है? इन सबके बारे में जानकारी होना जरूर है।

phd-kya-hai

आज हम एक पॉपुलर कोर्स के बारे में इस पोस्ट में आपको बताने जा रहे हैं, जिसका नाम है PhD Course . इस पोस्ट में हम आपको PhD Kya hai और PhD Course Details की पूरी जानकारी आसान से शब्दों में बतायेंगे। आपको यहां पर हम PhD ki Jankari की वो सभी जानकारी बतायेंगे जो आपको जाननी जरूरी है और आप जानना चाहते हैं जैसे –

  • पीएचडी क्या है (PhD Information in Hindi)
  • पीएचडी फुल फॉर्म नाम
  • पीएचडी कैसे करें (PhD Kaise Kare)
  • पीएचडी कब कर सकते हैं?
  • पीएचडी के लिए योग्यता
  • पीएचडी कोर्स डिटेल्स (PhD in Hindi)
  • पीएचडी प्रक्रिया (PhD Process)
  • पीएचडी एडमिशन (PhD Admission)
  • पीएचडी कितने ईयर की होती (PhD Kitne Year ki Hoti Hai)
  • पीएचडी की फीस कितनी है (PhD Ki Fees Kitni Hai)
  • पीएचडी के विषय

तो आइये जानते हैं पीएचडी के बारे में नॉलेज इन आसान से स्टेप्स में।

पीएचडी (PhD) क्या हैं और कैसे करें सम्पूर्ण जानकारी – PhD Kya hai

पीएचडी कोर्स क्या है.

पीएचडी की फुल फॉर्म होती है डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी (Doctor Of Philosophy) । आपने देखा होगा कि बहुत से लोग ऐसे हैं जो कि Medical Doctor नहीं होते हैं फिर भी उनके नाम के आगे डॉक्टर लगा होता है। असली में उन्होंने PhD का कोर्स कर रखा होता है। इस कारण उनके नाम के आगे Dr. लगा होता है।

पीएचडी एक डॉक्टरल डिग्री (Doctoral Degree) है, यह एक उच्च स्तर की डिग्री है। पीएचडी करना आसान काम नहीं है। यदि आपको PhD Course Krna Hai तो आप PhD Admission सीधे तरीके से नहीं ले सकते हैं। आपको सबसे पहले स्कूल और कॉलेज की पढ़ाई पूरी करनी होती है। इतना करने के बाद ही आप पीएचडी के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

आप किसी University या College में प्रोफेसर बनना चाहते हैं या फिर आगे रिसर्च करना चाहते हैं तो आपको पीएचडी का कोर्स करना जरूरी होता है। पीएचडी की डिग्री में आपको एक विशेष विषय पर अध्ययन करना होता है। फिर जब आपको उस विषय का पूरा ज्ञान हो जाता है और आप उस विषय में एक्सपर्ट हो जाते हैं तो आपको PhD Degree दी जाती है। फिर आप भी अपने नाम के आगे डॉ. लगा सकते हैं।

पीएचडी की डिग्री करने के लिए आपके पास जिस सब्जेक्ट में आपकी रूची है, उस सब्जेक्ट में मास्टर डिग्री होना जरूरी है। यदि आपके उस सब्जेक्ट में अच्छे मार्क्स होंगे तो आपको ज्यादा फायदा होगा। आपको आसानी के लिए बता दें कि आपका जिस सब्जेक्ट में Interest हो, उस सब्जेक्ट में ही आप 12th और Graduation पूरी करें। इससे आपको आगे Ph D करने में बहुत आसानी होगी। यदि आप सफ़लता पूर्वक अपनी पीएचडी की डिग्री कर लेते हैं तो आपको सार्वजनिक क्षेत्र में कई सारे फायदे मिलने शुरू हो जाएंगे।

अब आपके मन में ये सवाल आ रहा होगा कि पीएचडी कितने साल का कोर्स है (PhD Kitne Saal ki Hai) । आपको बता दें कि PhD ka Course तीन साल का होता है। यह कोर्स एक उच्च स्तर का कोर्स है जो करना आसान काम नहीं है। इस कोर्स को Ph.D या फिर PhD भी कह सकते हैं। इस कोर्स को करने के बाद हम अपने नाम के आगे डॉ. की उपाधी जोड़ सकते हैं।

पीएचडी कितने साल का कोर्स है? (PhD Kitne Saal Ka Hota Hai)

पीएचडी करने के लिए आप सभी लोगों का 3 साल लग सकता है अर्थात हमारे कहने का मतलब यह है कि पीएचडी करने के लिए आपका 3 साल का समय लगेगा।

पीएचडी करते समय यह सुविधा भी दी जाती है कि हम अपने इस 3 साल के कोर्स को 6 साल तक भी खत्म कर सकते हैं। इस कोर्स को करने में हमें हर टॉपिक के विषय में डिटेल में रिसर्च करने को मिलता है, जिससे हमारा जड़ बहुत ही मजबूत हो जाता है और बड़ी ही आसानी से किसी भी टॉपिक को सॉल्व करने के लिए सक्षम हो जाते हैं।

  • ड्रग इंस्पेक्टर (Drug Inspector) कैसे बनें?
  • ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

पीएचडी के लिए योग्यता (PhD ke Liye Qualification in Hindi)

आपके पास पीएचडी के लिए योग्यता होनी चाहिए जो कि निम्न प्रकार से है:

  • आपके पास पीएचडी करने के लिए स्नातक की डिग्री होना जरूरी है।
  • स्नातक की डिग्री होने के साथ-साथ मास्टर डिग्री भी होना बहुत जरूरी है वो भी 55% या 60% अंक के साथ। ये प्रतिशत अलग-अलग विश्वविद्यालय के लिए अलग-अलग हो सकते हैं।
  • पीएचडी प्रवेश के लिए आपको एक प्रवेश परीक्षा पास अच्छे अंको के साथ करना होता है।

पीएचडी के लिए योग्यता के ये सभी स्टेप्स यदि आप क्लियर कर लेते हैं तो आप पीएचडी के योग्य बन जाते हैं।

पीएचडी करने के फायदे (PhD Karne Ke Fayde)

  • पीएचडी करने के बाद आपके नाम आगे डॉक्टर का नाम लग जाता है। इससे आपकी Personality और भी बढ़ जाती है।
  • पीएचडी कोर्स करने के बाद आप अपने क्षेत्र में एक्सपर्ट हो जायेंगे।
  • यदि आपके पास पीएचडी की डिग्री होगी तो आप आसानी से किसी कॉलेज या विश्वविद्यालय में प्रोफेसर पद पर नियुक्त हो सकते हैं और आपके जॉब लगने के संभावना और भी बढ़ जाती हैं।
  • पीएचडी करने के बाद आप अपने क्षेत्र में सही या गलत का निर्णय खुद ले सकते हैं।
  • यदि आप PhD कर लेते हैं तो आप जानकारी का निर्माता (Creator of information) भी कहलायेंगे।
  • पीएचडी करने के बाद आप अपने क्षेत्र के किसी भी पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • PhD के बाद आप अपने विषय पर रिसर्च और एनालिसिस कर सकते हैं।

पीएचडी कैसे करें (PhD Kaise Ki Jati Hai)

phd-degree

आपको किसी भी तरह की डिग्री करने के लिए आपको 12th पास होना जरूरी है। इसके लिए आप जब 10th पास कर लेते हैं तो उसके बाद से आपको वहीं सब्जेक्ट को चुनना चाहिए, जिस सब्जेक्ट्स में आप पीएचडी करना चाहते है, आपको अपने इन सब्जेक्टस में 11th और 12th में अच्छे से पढ़ाई करनी है और हो सके जितने अच्छे अंकों के साथ पास होना है। आपके जितने मार्क्स ज्यादा होंगे उतनी ही आपको आगे पीएचडी करने में आसानी होगी और मदद मिलेगी।

जब आप अपनी 12th पूरी कर लेते हैं। फिर आपको जिस सब्जेक्ट में रूची हो उस सब्जेक्ट के लिए प्रवेश परीक्षा दें और इस एंट्रेंस एग्जाम को पूरा करें। फिर इसके बाद अपनी स्नातक पूरी करें। आपको जिनता हो सके अच्छे अंकों के साथ पास होना है। जिनते अंक ज्यादा होंगे आपके लिए पीएचडी के लिए रास्ते उतने ही आसान बनते रहेंगे।

जब आपकी स्नातक पूरी हो जाती है तब फिर आपको पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए अप्लाई करना है। आपने जिस सब्जेक्ट में स्नातक की है, यदि आप उस सब्जेक्ट में ही अपनी मास्टर डिग्री करते हैं तो आपके लिए आसानी रहेगी। ध्यान रहे कि आपको अपनी स्नातक और मास्टर डिग्री में कम से कम 60% तक अंक लाने है ताकि आगे एंट्रेंस एग्जाम के लिए कोई समस्या न हो।

पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी हो जाती है तो आपको अब UGC Net Test देना होता है और आपको इसे क्लियर करना बहुत ही जरूरी होता है। इस एग्जाम के लिए आप कोचिंग भी ले सकते हैं। ये प्रवेश परीक्षा थोड़ी कठिन होती है। UGC Net Exam पहले नहीं होता था। लेकिन अब पीएचडी करने के लिए इसे क्लियर करना अनिवार्य कर दिया गया है।

आप इस एग्जाम को क्लियर कर देते हैं तो आप पीएचडी के योग्य हो जाते हैं। अब आपको जिस कॉलेज या विश्वविद्यालय में पीएचडी करनी है, उस विश्वविद्यालय का एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करके आप पीएचडी में दाखिला ले सकते हैं।

पीएचडी की फीस कितनी है?

पीएचडी की जानकारी जानने के बाद आपके मन में ये सवाल तो जरूर आया होगा कि पीएचडी की फीस कितनी है (PhD Ki Fees Kitni Hai) । हर कॉलेज और विश्वविद्यालय की पीएचडी की फीस अलग-अलग होती है ये तो उस कॉलेज पर ही निर्भर करती है। लेकिन औसतन पीएचडी फीस लगभग 30 से 40 हजार एक साल की हो सकती है। पीएचडी करने में 3 साल का समय लगता है। ये कोर्स समेस्टर में होता है, जिसमें प्रैक्टिकल परीक्षा (Practical Exam) और Theory Exam होते हैं।

पीएचडी में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

हम यहां पर कुछ Popular PhD Subjects बता रहे हैं। ज्यादातर लोग इन सब्जेक्टस में पीएचडी करना पसंद करते हैं।

  • Phd in Physics
  • Phd in Engineering
  • Phd in Mathematics
  • Phd in Finance & Economics
  • Phd in Psychology
  • PhD In Management

इनके अलावा आप हिंदी, अंग्रेजी, होम साइंस, एग्रीकल्चर, इतिहास, फाइन आर्टस, सर्जरी, जियोग्राफी, जियोलॉजी, एकाउंटिंग, बायोकेमिस्ट्री, फार्मेसी में भी पीएचडी कर सकते हैं।

आसानी से किया जा सकता है इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी

जी हां, दोस्तों आप सभी लोग बिल्कुल सही सुन रहे हैं। यदि आप भी इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करना चाहते हैं तो बड़ी आसानी से पीएचडी कर सकते हैं। परंतु पीएचडी करने के लिए आपको काफी तेज दिमाग वाला होना चाहिए। क्योंकि पीएचडी करना कोई आसान काम नहीं है, पीएचडी करने के लिए तेज दिमाग और एकाग्र होना पड़ता है।

इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट भी अन्य सब्जेक्ट की तरह ही महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि यह कौन सी सब्जेक्ट के माध्यम से ही बैंकों के लिए पढ़ाई की जाती है और यदि आपके अकाउंट में सब्जेक्ट से पीएचडी कर लेते हैं तो बैंकों में नौकरी के चांसेस बढ़ जाते हैं।

इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करने के फायदे

इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करने के बहुत से फायदे हैं, जिन के विषय में नीचे निम्नलिखित रुप से बताया गया है। आइए जानते हैं:

  • इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करके आप सभी लोगों के नौकरी के चांसेस सरकारी क्षेत्रों के साथ-साथ निजी क्षेत्रों में भी काफी बढ़ जाएंगे।
  • इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करके आप सभी लोग कई फाइनेंसियल कंपनी के लिए अप्लाई कर पाएंगे।
  • इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी कर के आप सभी लोग आईएएस अधिकारी भी बन सकते हैं।
  • बाद में सब्जेक्ट से पीएचडी करके आप सभी लोगों के चांसेस बैंक से नौकरी संबंधित कार्यों और बैंकों में काफी ज्यादा बढ़ जाता है।

इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट से पीएचडी करने के बाद यदि आप एक अर्थशास्त्री के बनते हैं तो आपको ₹30000 से लेकर लाखों रुपए तक वेतन दिया जाता है।

हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी करने के फायदे

यदि आप सभी लोग हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी कर लेते हैं तो आपको बहुत से सरकारी और प्राइवेट जॉब्स में सिलेक्शन का चांस बढ़ जाता है और पीएचडी करने के बाद आप सभी लोग अन्य लोगों के मुकाबले काफी जल्दी से सेल सेलेक्ट भी किए जाते हैं।

दोस्तों पीएचडी करने का सिर्फ यही फायदा नहीं है, बल्कि पीएचडी करने के बहुत से फायदे हैं, जिनके विषय में जानकारी नीचे निम्नलिखित बताई गई है।

  • हिस्ट्री सब्जेक्ट से बी ए और एम ए के बाद पीएचडी करने से आप सभी लोगों के प्राइवेट और गवर्नमेंट जॉब दोनों ही क्षेत्रों में सिलेक्शन के चांसेस काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं।
  • हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी करने के बाद सूचना प्रसारण, मंत्रालय आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया इत्यादि सरकारी जॉब मिल सकते हैं।
  • हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी करने के बाद प्राइवेट कंपनी के तरफ से आपको बहुत से जॉब्स के ऑफर मिलेंगे जैसे कि टीचिंग, इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन, सोसाइटी, आर्काइव्स, म्यूजियम, पत्रकारिता, लाइब्रेरी, क्यूरेटर इत्यादि।
  • हिस्ट्री सब्जेक्ट से बीए या फिर जमा करने के बाद एचडी करके आप सभी लोग जब भी गवर्नमेंट टीचर के लिए अप्लाई करेंगे तो आप के सेलेक्शन के चांसेस लगभग 20% तक बढ़ जाता है और आप अन्य लोगों के मुकाबले 20% इनक्रीसड चांस समझ सकते हैं।
  • यदि आप हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी करना चाहते हैं तो बेझिझक करें क्योंकि हिस्ट्री सब्जेक्ट में यदि आप सच्ची निष्ठा के साथ महारत हासिल कर लेते हैं तो किसी भी हिस्ट्री से संबंधित सरकारी या प्राइवेट क्षेत्र में आप सभी लोग काफी जल्दी चयनित हो जाएंगे।
  • हिस्ट्री सब्जेक्ट वालों के लिए भी भारत में प्रत्येक वर्ष समय-समय पर कई वैकेंसी निकाली जाती हैं और इसके साथ साथ आप सभी लोग प्राचीन लिपि और प्राचीन सिक्कों में हिस्ट्री सब्जेक्ट में पीएचडी करने के बाद स्पेशलाइजेशन भी करा सकते हैं।
  • आप सभी लोग हिस्ट्री सालों से पीएचडी करने के बाद इतिहासकार अर्थात इतिहास का अध्ययन रिसर्च और लेखा-जोखा रखने वाले भी चयनित किए जा सकते हैं।

पीएचडी की तैयारी कैसे करें (PhD ki Taiyari Kaise Kare)

PhD Kya Hai अब आपको ये तो पता लग ही गया होगा। अब आपको Phd की तैयारी करने के लिए कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखना होगा। इससे आपको पीएचडी करने में काफी मदद मिलेगी।

  • आप सभी पहले के पेपर खरीदें और उन पेपर्स का Analysis करें। जिससे आपको पीएचडी पेपर पैटर्न का पता चल जायेगा और पता लग जायेगा कि पीएचडी में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं?
  • आप उनकी सहायता लें जो पहले पीएचडी कर चुके हैं और हमेशा उनके सम्पर्क में रहे।
  • यदि आपका सब्जेक्ट Current Affairs से संबंधित है तो आपको अखबार की मदद लेनी चाहिए और हमेशा Current Affairs पढ़ना चाहिए।
  • अपने पीएचडी के विषय के बारे में हमेशा जानने की इच्छा रखें।

पीएचडी के बाद क्या करें (Phd Hindi)

यदि आप पीएचडी का कोर्स कर लेते हैं तो आपके भविष्य में कई सारे जॉब और काम करने के रास्ते खुल जाते हैं। आपको कहीं पर भी जॉब मिल सकती हैं।

  • आप शिक्षा के क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते हैं।
  • आप मेडीकल रिसर्च में काम कार सकते हैं।
  • यदि आप रसायन विज्ञान में पीएचडी करते हैं तो आप रासायनिक अनुसंधान केंद्र में काम कर सकते हैं।
  • यदि आप PhD in Nutrition करते हैं तो आपको Scientific Advisor में काम मिल सकता है।
  • इनके अलावा भी आप अपने विषय से सम्बंधित क्षेत्र में काम कर सकते हैं।

पीएचडी फुल फॉर्म डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी (Doctor of Philosophy) होता है।

भौतिकी, इंजीनियरिंग, गणित, वित्त और अर्थशास्त्र, मनोविज्ञान, प्रबंधन, हिंदी, अंग्रेजी, होम साइंस, एग्रीकल्चर, इतिहास, फाइन आर्टस, सर्जरी, जियोग्राफी, जियोलॉजी, एकाउंटिंग, बायोकेमिस्ट्री, फार्मेसी आदि सब्जेक्ट्स में आप पीएचडी कर सकते हैं।

पीएचडी को हिंदी में डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी कहते हैं।

पीएचडी 3 साल का कोर्स है।

हर कॉलेज और विश्वविद्यालय की पीएचडी की फीस अलग-अलग होती है ये तो उस कॉलेज पर ही निर्भर करती है। लेकिन औसतन पीएचडी फीस लगभग 30 से 40 हजार एक साल की हो सकती है।

पीएचडी करने के लिए आपके पास स्नातक और मास्टर डिग्री (55% या 60% अंक के साथ) होना जरूरी है और इसके बाद पीएचडी प्रवेश के लिए एक प्रवेश परीक्षा अच्छे अंको के साथ पास करना होता है।

आपके ग्रेजुएशन का परसेंटेज स्नातक और स्नातकोत्तर दोनों में ही 55% से ऊपर होना चाहिए। अन्यथा आपका सिलेक्शन पीएचडी के लिए नहीं हो पाएगा।

एस्ट्रोनॉट बनने के लिए पीएचडी में आप सभी लोगों को एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के तहत पीएचडी करनी चाहिए और आपको यही सब्जेक्ट यूज भी करना चाहिए।

जी हां। आप सभी लोग पीएचडी के लिए अप्लाई तो कर सकते हैं। परंतु पीएचडी के लिए स्कूल मिलना बेहद मुश्किल होगा। क्योंकि पीएचडी करने के लिए नेट क्वालिफाइड छात्रों को सबसे पहले चयनित किया जाता है। ऐसे में यदि सीट बची है तो ही आपको सिलेक्ट किया जा सकता है।

बिना नेट क्लियर किए आप सभी लोग पीएचडी में एडमिशन तो हो सकता है। परंतु एडमिशन होने की गारंटी कोई भी नहीं लेगा। क्योंकि जब नेट क्लियर किए छात्रों का पी एच डी में सिर्फ फुल होने के कारण एडमिशन नहीं हो पाता तो बिना नेट क्लियर किए लोगों का पीएचडी में एडमिशन तो बहुत ही मुश्किल है। यदि आप वाकई में पीएचडी करना चाहते हैं तो नेट क्लियर करना पड़ेगा। अन्यथा जब तक आपका एडमिशन ना हो जाए आप तब तक वेट करें।

जी नहीं। यदि आप का फाइनल रिजल्ट नहीं है तो आप पीएचडी के लिए अप्लाई नहीं कर पाएंगे। क्योंकि पीएचडी के लिए अप्लाई करते समय आपका फाइनल रिजल्ट आपसे मांगा जाएगा और यदि आपके पास रिजल्ट ही नहीं होगा तो आप पीएचडी के लिए अप्लाई ही नहीं कर पाएंगे।

जी नहीं। यदि आपका b.a. में 50% से कम मार्क है तो आप पीएचडी नहीं कर सकते। पीएचडी करने के लिए आपका b.a. में 55% से अधिक मार्क होने चाहिए।

हिस्ट्री सब्जेक्ट से पीएचडी करने के लिए आप सभी लोगों को साइकोलॉजि सब्जेक्ट भी मिल जाएगा आप साइकॉलजी सब्जेक्ट से भी पीएचडी कर सकते हैं।

जी हां आप सभी लोग पीएचडी कर सकते हैं, क्योंकि पीएचडी में प्रतिशतता 55% की होती है और आपकी केवल बीकॉम या एमकॉम की ही प्रतिशतता नहीं बल्कि आपके हाईस्कूल और इंटर के बोर्ड एग्जाम में भी 55% से अधिक मार्क होने चाहिए।

जी हां बिल्कुल आप सभी लोग किसी भी लैंग्वेज से पीएचडी कर सकते हैं, परंतु पीएचडी करते समय आपको याद रहे कि गुजराती के साथ-साथ आपको हिंदी लैंग्वेज में भी चयनित सब्जेक्ट में ज्ञान होना चाहिए, यदि आप इंट्रेंस एग्जाम में ही डिसक्वालीफाई हो जाएंगे, तो पीएचडी नहीं कर पाएंगे।

आप सभी लोग यदि अपने बोर्ड एग्जाम अर्थात इंटर हाई स्कूल और इसके बाद के अपर लेवल एग्जाम में 55% अंक से अधिक अंक प्राप्त करते हैं, तो आप इकोनामी सब्जेक्ट या फिर मैनेजमेंट सब्जेक्ट में से किसी एक सब्जेक्ट का चयन करके पीएचडी कर सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह ‘पीएचडी क्या हैं पूरी जानकारी – PhD Kya hai’ जानकारी पसंद आएगी। PhD Kya Hai इस जानकारी को आगे शेयर जरूर करें। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

  • B.Ed Course कैसे करें? क्या है, इसकी योग्यताएं
  • GNM और ANM क्या होती है, पूरी जानकारी
  • SSC क्या है? SSC की पूरी जानकारी
  • SDM क्या होता है और कैसे बने SDM Officer

Rahul Singh Tanwar

Related Posts

Comments (46).

Thanku so much sir dil se sukriya itni jaankari provide karne ke liye

Hello .my age is 35 my .M.A is clear 50% mark .hum age kon sa course ya exam ki tayari Kare jise humri govt lag jaye

Very useful information

Sir mere pg mai 64% hai mai PhD kar sakata hu

BA me 55% hai or MA Mai 65 to phd kr skte h Plzz tell me

एमएससी केमिस्ट्री में 75% आए हैं सर अब मै कया करू जी विदेश मे नौकरी करने कि इच्छा है कुछ मदद किजिए.

Sir mene 2015 me b.com + com. Se graduation kiya or pgdca bhi ho gaya fir meri personal reasons ki bajeh se padhai chhot gai ab me fir se karna chahti ho or mujhe phd karna hai to me mastar degree karo ya pgdca se ke baad bhi phd kar sakti ho agar nhi to me ab me MA kar lo ya mujhe m.com karna padega phd ke liye

very useful information

Sir, Mujhe aapki ek advice chaiye mujhe PHD economic se krni chahiye ya psychology se

जिसमें आपकी अधिक रूचि है उसमें पीएचडी करना आपके लिए सही रहेगा।

BA में 52% है…. MA अभी चल रही है… यदि मैं MA अच्छे नंबरों से पास कर लूं तो क्या मैं PhD के पात्र हो जाऊंगा…??

sir kya yah jaroori hain ki apki graduation mein 55% marks ho, kya isse kam ya 50%marks ke saath aage phd nahin kar sakate ho, yes bhale hi post graduation mein 60% marks manya hain lekin gradution yah jaroori thori hain, pls reply me…..

Thank you very much sir for very important information. Sir I want to know the answers of some questions(1) what is the educational qualification for doing PHD in mathematics according to new education policy. sir I have passed bachelor of engineering in electrons and communication in 2005 and MBA in IT and marketing in 2009 and B.Ed in 2012 so can I do PhD in mathematics? (According to NEP 2020-21) please reply me I will be thankful to you Thank you very much sir

Good Afternoon Sir, Mai MA Pre.(Political Science) ki student hu. Mera favourite subject Public Administration hai. Kya m es Subject se in future PhD kr skti hu. Please reply me.

ha kyo nahi bilkul kr skti ho

sir kya hm mca kae bad phd kr kste hai ya nhi

Sir, hum history se UG kiya hai Aur PG sociology se kar rahi hu. Kya main ph. d k liye apply kar sakti hu???

Shampa Gorai जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Hello sir क्या मैं शिक्षाशास्त्र से ph.D कर सकती हूँ ?

Sir mene b.com me 55% or m.com me 60% laye he mene aapni study 2016 me complete ki he Gujarat se abhi meri sadi uttar pradesh me hui he mene aapni study Gujarati language me ki he yha Hindi language me kya me Account subject pr PhD kr sakti hu.

Purnima Verma जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Sir mere toh 63% hai UG me aur .PG chal raha hai abhi toh kosis karungi ki 65% se upar ho PG % mujhe PHD karni hai sir manegement subject se Economic se en dono me kisi ek ko

Sangeeta जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

History sub je bare ne bataiye sir uske benifit kya hai kis area me ha sakte hai

आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

स्नातक में भी 55% से ज्यादा चाहिए क्या या ओनली स्नातकोत्तर में

Sir astronaut banna Ka liya PhD ma kon sa subject la

Anjali जी आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Mnto ugc nat kiliyr nhi kiya h kya m phd k liy applay kr skti hu kya or mr fainl m 48/ hi bni h or m a ka rejlt nhi aaya h to m kr skti hu kya

Seeta jat जी आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Economic subject se p.hd kar sakte h ,is subject se p.hd karne se kya fayde mil sakte h please lell me

Saloni yadav जी आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Sir jii net clear kiye bina P.hd me admission nhi ho payega kya

Mamta जी आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Sir mere BA me 50% se km h or MA me 60% h to me Phd ke liye apply kr skti hu kya…

Pooja जी आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद! हमने आपके सवाल को विस्तार से आर्टिकल में सांझा कर दिया है।

Sir mene bsc ki but abhi ma hindi se kar rhe hu to me phd kar skti hu kya

Aap phd ke liye apply nahi kar sakte kyoki aapke UG me 50% se kam hai isliye

Very nice and deeply information about We are greatly information as thanks ful

Very nice information sir We are thankful to you

NYC information

Jaankari milke mujhe bahut aacha apne man me mahsus huwa

Good information sir

Leave a Comment जवाब रद्द करें

ONETECHGURUKUL

PhD क्या होता है? PhD Kitne Saal ka Hota Hai – विषय, योग्यता ,फायदे

Phd क्या होता है.

PhD का मतलब होता है “ Doctor of Philosophy ” या फिर “Philosophiae Doctor” (लैटिन में). यह एक higher education degree होती है जो किसी विशेष विषय में leading education और research की प्रक्रिया का हिस्सा होता है। PhD. को अक्सर doctorate के रूप में भी जाना जाता है।

PhD. प्रोग्राम विशेषज्ञता क्षेत्र में गहरा अध्ययन और रिसर्च करने की अनुमति देता है, और विशेष अध्ययन क्षेत्र में नई जानकारी और गहरा ज्ञान विकसित करने का अवसर प्रदान करता है।

इसका मुख्य उद्देश्य नए ज्ञान की रचना, समस्याओं के समाधान करना होता है।

PhD. प्रोग्राम की अवधि विशेष शैली और विषय के आधार पर भिन्न हो सकती है, लेकिन आमतौर पर यह कम से कम 3 साल से लेकर 5 साल तक का समय लेता है। प्रोग्राम का हिस्सा अकादमिक पढ़ाई, रिसर्च प्रोजेक्ट्स, और एक थीसिस या डिसर्टेशन के लिए काम करना होता है।

PhD. डिग्री धारकों को गहरे ज्ञान, अनुशासन, और रिसर्च कौशल के साथ अकादमिक और रिसर्च क्षेत्रों में करियर की संभावना प्रदान करती है, जैसे कि विश्वविद्यालयों, रिसर्च ऑर्गनिज़शन , और विशेषज्ञ नौकरियों में।

PhD Full Form in Hindi

PhD. का पूरा नाम होता है “डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी” या फिर “फिलॉसफी डॉक्टर” (Doctor of Philosophy).

PhD कितने साल का होता है ?

Ph.D. की अवधि विशेष शैली, विशेष शिक्षा संस्थान, और विषय के आधार पर भिन्न हो सकती है, लेकिन आमतौर पर यह कम से कम 3 साल से लेकर 5 साल तक का समय लेता है।

यह अवधि आपके रिसर्च प्रक्रिया, डिसर्टेशन या थीसिस के लिए कितना समय लगता है और आपके रिसर्च में कितनी विशेषता शामिल होती है, इन तथ्यांकों पर निर्भर करती है।

इसके बावजूद, यदि किसी क्षेत्र में और गहरे अध्ययन और रिसर्च की आवश्यकता होती है, तो इसकी समय अधिक भी हो सकता है। कुछ संदर्भों में, एक PhD. पूरा करने में 6 साल या उससे भी अधिक समय लग सकता है।

आपके अध्ययन क्षेत्र, मार्गदर्शन गाइड की सामर्थ्य, और आपके अध्ययन के पूरे होने के लिए आवश्यक आवश्यकताओं के साथ इस प्रक्रिया के समय को निर्धारित किया जाता है।

पीएचडी कौन से सब्जेक्ट में कर सकते हैं?

पीएचडी कई विभिन्न शिक्षा क्षेत्रों और विशेषज्ञता क्षेत्रों में किया जा सकता है।कुछ प्रमुख पीएचडी शिक्षा क्षेत्र हैं:

विज्ञान (Science):

  • भौतिक शास्त्र (Physics)
  • रसायन शास्त्र (Chemistry)
  • जीव विज्ञान (Biology)
  • गणित (Mathematics)
  • वनस्पति विज्ञान (Botany)
  • जैव विज्ञान (Biotechnology)

सामाजिक विज्ञान (Social Sciences):

  • अर्थशास्त्र (Economics)
  • समाजशास्त्र (Sociology)
  • राजनीतिक विज्ञान (Political Science)
  • मनोविज्ञान (Psychology)
  • इतिहास (History)
  • भूगोल (Geography)

मानविकी (Humanities):

  • साहित्य (Literature)
  • भाषाविज्ञान (Linguistics)
  • धर्मशास्त्र (Religious Studies)
  • फिल्म और रंगमंच (Film and Theatre)
  • दर्शन (Philosophy)

प्रौद्योगिकी (Technology):

  • कंप्यूटर विज्ञान (Computer Science)
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्यूनिकेशन (Electronics and Communication)
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग (Software Engineering)
  • विलयनीय तकनीक (Civil Engineering)
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (Electrical Engineering)

व्यापार (Business):

  • विपणन और विपणन प्रबंधन (Marketing and Retail Management)
  • वित्त और लेखा (Finance and Accounting)
  • व्यवसाय प्रबंधन (Business Management)
  • आर्थिक सांविकासन (Economic Development)
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (International Business)

स्वास्थ्य और चिकित्सा (Health and Medicine):

  • चिकित्सा (Medicine)
  • स्वास्थ्य प्रबंधन (Health Management)
  • डायग्नोस्टिक विज्ञान (Diagnostic Sciences)
  • डेंटिस्ट्री (Dentistry)
  • फार्मेसी (Pharmacy)

कृषि (Agriculture):

  • कृषि विज्ञान (Agricultural Science)
  • पशुपालन और डेयरी विज्ञान (Animal Husbandry and Dairy Science)
  • कृषि विपणन (Agricultural Marketing)
  • पर्यावरण विज्ञान (Environmental Science)
  • प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन (Natural Resource Management)
  • जैव विविधता (Biodiversity)

वकील कैसे बने? Criminal Lawyer Kaise Bane । Sarkari Lawyer Kaise Bane

PhD करने के लिए Eligibility क्या है ?

Ph.D. करने के लिए योग्यता निर्भर करती है आपके चुने गए university और देश के शैली और नियमों पर, लेकिन आमतौर पर निम्नलिखित योग्यता की आवश्यकता होती है:

मास्टर्स डिग्री: आपको एक मास्टर्स डिग्री (जैसे M.A., M.Sc., M.Tech., M.Phil., या इसके समकक्ष) का धारक होना आवश्यक होता है।

प्रवेश परीक्षा: कुछ university और संस्थानों में Ph.D. करने के लिए प्रवेश परीक्षा या इंटरव्यू की आवश्यकता होती है।

रिसर्च प्राथमिकता: आपको रिसर्च क्षमता और इंगीत करने की क्षमता होनी चाहिए।

अन्य योग्यता: कुछ विश्वविद्यालयों और क्षेत्रों में अन्य योग्यता की मांग की जा सकती है, जैसे कि गेट (GATE), यूजीसी नेट (UGC NET), या अन्य राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय प्रवेश परीक्षाएं।

Bca क्या होता है? योग्यता, सैलरी, करियर, फीस

Bcom के बाद कौन सा कोर्स करें ? 13+ Best Courses after BCom

PHD में क्या होता है?

PHD. (डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी) एक ऐसा postgraduate education degree होता है जिसका higher education में सबसे ऊंचा दरजा होता है। PHD कार्यक्रम में छात्रों को गहन रिसर्च और छात्रवृत्ति की माध्यम से एक विशिष्ट शैक्षणिक विषय और क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त करने का अवसर मिलता है।

ये डिग्री अक्सर रिसर्च पर आधारित होती है, और इसमे छात्रों को एक महत्वपूर्ण मूल रिसर्च प्रोजेक्ट पूरी करके उसके परिणामों में योगदान देना होता है।

पीएच.डी. कार्यक्रम के दौरान छात्रों को कुछ प्रमुख गतिविधियाँ और जिम्मेदारियाँ होती हैं:

Research : PHD विद्यार्थियों का मुख्य काम original रिसर्च करना होता है। ये रिसर्च आम तौर पर एक विशिष्ट विषय या समस्या पर केंद्रित होती है, और इसका उद्देश्य नया ज्ञान को विकसित करना होता है।

Coursework : PHD कार्यक्रम के शुरूआती दौर में छात्रों को उपयुक्त कोर्स पूरा करने की भी आवश्यकता होती है। ये कोर्स उनके रिसर्च क्षेत्र या क्षेत्र से संबंधित होते हैं और उनकी academic foundation को मज़बूती देते हैं।

Thesis या Dissertation: PHD छात्रों को अपने शोध का चरम बिंदु एक थीसिस या शोध प्रबंध के रूप में प्रस्तुत करना होता है। ये दस्तावेज़ उनके शोध का सबूत होता है, जिनके अपने निष्कर्ष, कार्यप्रणाली और निष्कर्ष को प्रस्तुत किया जाता है।

Advisor or Supervisor: हर छात्र को एक शोध Advisor या Supervisor दिया जाता है, जो उनके research project को मार्गदर्शन करता है। सलाहकार छात्रों के रिसर्च के प्रति परामर्श और समर्थन प्रदान करते हैं।

ज्ञान में योगदान: PHD के अंतरगत छात्रों को नए ज्ञान का निर्माण करना होता है, जिसका उनका क्षेत्र और समाज को फ़ायदा हो सके। उनका रिसर्च आम तौर पर एक योगदान के रूप में माना जाता है।

Publication : PHD छात्रों के लिए रिसर्च पत्र लिखना और उन्हें अकादमिक पत्रिकाओं में प्रकाशित करना भी महत्वपूर्ण होता है। ये उनके रिसर्च की मान्यता और प्रसार का एक तरीका होता है।

PHD कार्यक्रम चुनौतीपूर्ण होता है और इसमें समय की मांग अधिक होती है। इसमे छात्रों को अकादमिक कठोरता और विश्लेषणात्मक सोच की अधिक सीमा होती है।

लेकिन ये उनके लिए एक महत्वपूर्ण अवसर भी होता है अपने चुने गए क्षेत्र में विशेष ज्ञान प्राप्त करने का। PHD धारक अक्सर academic institutions, research organizations, government agencies, और industries में उच्च स्तरीय पदों पर काम करते हैं।

PhD में क्या करना होता है?

PHD (डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी) प्रोग्राम में आपके कुछ खास कार्य और प्रक्रियाओं को पूरा करना होता है। यहां मैं कुछ मुख्य कार्यवाहियां बता रहा हूं जो आपको PHD प्रोग्राम के दौरन करनी होती हैं:

  • Topic Selection
  • Advisor Selection
  • Research proposal
  • Original Research
  • Thesis/dissertation writing
  • Publishing research papers
  • Seminars and Presentations
  • Thesis/Dissertation Defense

PhD के फायदे क्या है?

PhD प्राप्त करने के कई फायदे हो सकते हैं, जो आपके करियर और व्यक्तिगत विकास को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं:

  • PhD कार्यक्रम आपको अपने चुने गए क्षेत्र में गहरा ज्ञान प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है।
  • PhD के दौरान रिसर्च प्रक्रिया को गहराई से समझने का मौका मिलता है, जिसमें डेटा संग्रहण, विश्लेषण, और प्रस्तावना तैयारी शामिल होती है।
  • फील्ड के साथ अधिगम करने का मौका होता है, जिससे आपकी नौकरियों के अवसर बढ़ सकते हैं।
  • PhD डिग्री आपको उच्च स्तर की नौकरियों के लिए योग्यता प्रदान कर सकती है।
  • एक डॉक्टरेट कार्यक्रम आपको अपने रिसर्च के माध्यम से अपनी विशेषज्ञता के क्षेत्र में स्वतंत्रता प्रदान करता है।
  • PhD कार्यक्रम आपको समाज के लिए मूल्यवान योगदान करने का अवसर प्रदान करता है, क्योंकि आप नए ज्ञान और समस्या के समाधान में मदद कर सकते हैं।

ध्यान दें कि PhD प्राप्त करना आपके लिए लाभकारी हो सकता है, लेकिन यह भी एक महंगा और समय लेने वाला प्रक्रिया हो सकता है, इसलिए आपको अच्छी तरह से सोचकर और तय करके इस निर्णय को लेना होगा।

सरकारी टीचर कैसे बने? कौन-से Entrance Exam देने होते है?

FAQ: phd kitne saal ki hoti h

Q1. क्या पीएचडी को डॉक्टर कहा जा सकता है?

हां, PhD पूरी करने वाला कोई भी व्यक्ति अपने पहले नाम से पहले डॉ.(Dr.) जोड़ सकता है।

Q2. phd course kitne saal ka hota hai

PhD पूरी करने के लिए समय सीमा 3 साल है लेकिन कुछ परिस्थितियों में कैंडिडेट को 5-6 साल तक का समय भी लग सकता है।

Q3. क्या हम किसी विषय में पीएचडी कर सकते हैं?

हां, कैंडिडेट किसी भी स्ट्रीम में PhD कर सकते हैं, उन्हें एक विशेष विषय का चयन करना होगा और उस पर गहन शोध करना होगा।

Q4. PhD करने के बाद का वेतन क्या है?

वेतन अंततः आपके अनुभव और उस क्षेत्र पर निर्भर करेगा जिसमें आपने PhD पूरी की है। पीएचडी के लिए सामान्य वेतन 5-6 लाख सालाना है।

Q5. phd me kya karna hota hai

Q6. phd kitne saal ki hoti h

3 से 6 साल तक की PhD होती है।

Q7.पीएचडी करने से क्या बनते हैं?

पीएचडी (Ph.D.) करने के बाद आपके पास कई विभिन्न करियर और पेशेवर विकल्प होते हैं, और आप अपने अध्ययन क्षेत्र, विशेषज्ञता, और उद्देश्यों के हिसाब से उनमें से कुछ को चुन सकते हैं।

  • विश्वविद्यालय शिक्षक
  • अनुसंधान वैज्ञानिक
  • औद्योगिक अनुसंधान और विकास
  • कल्चरल और सामाजिक सेक्टर
  • उद्यमिता (Entrepreneurship)
  • सर्वोच्च नौकरियां

Related Posts

MA Ke Baad PHD Kaise Kare : MA के बाद पीएचडी कैसे करे? पीएचडी और MA में क्या अंतर है?

MA Ke Baad PHD Kaise Kare : MA के बाद पीएचडी कैसे करे? पीएचडी और MA में क्या अंतर है?

ba ke baad mba kaise kare

BA Ke Baad MA Kaise Kare : BA के बाद MA कैसे करें? Ma में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

BA के बाद पीएचडी कैसे करें? पीएचडी कौन से सब्जेक्ट में कर सकते हैं? ba ke baad phd kaise kare

BA के बाद पीएचडी कैसे करें? पीएचडी कौन से सब्जेक्ट में कर सकते हैं?

Leave a comment cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

PHD क्या है कैसे करे: Full Form, Fees, Subject in Hindi

हर किसी का एक सपना होता हैं की वो पढ़ लिख कर एक कामयाब इंसान बने। जिसके लिए वो पढाई लिखाई करता हैं और स्कूल की पढाई के बाद कोर्स डिग्री लेना चाहता हैं जिससे उसे एक अच्छी नौकरी मिल सके। पर जो भी कोर्स करना हैं उसके बारे में पूरी जानकारी होना भी जरुरी होता हैं। ऐसा ही एक कोर्स हैं पीएचडी। जिसे करने की चाहत हजारो लोगो की होती हैं। आज हम इसी डिग्री के बारे में आम पूछे जाने वाले सवालो के जवाब देंगे। PHD क्या हैं? इसे कैसे करे, Full Form क्या है, पीएचडी करने में फीस कितनी लगती हैं। ये कोर्स कितने साल का होता हैं और इसे करने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए।

Table of Contents

पीएचडी किसे करनी चाहिए?

पीएचडी करने के लिए योग्यता: phd eligibility in hindi, पीएचडी कोर्स करने के फायदे, phd कोर्स में लगने वाली फीस और समय, पीएचडी डिग्री से जुड़े सवाल जवाब (faq), पीएचडी क्या हैं phd full form in hindi.

पीएचडी क्या हैं? PHD कैसे करे : फीस, योग्यता साल

PHD की Full Form होती हैं Doctor of Philosophy . पीएचडी की फुल फॉर्म हिंदी में है डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी। ये एक Doctoral Degree होती हैं। जो भी पीएचडी का कोर्स पूरा कर लेता हैं उसके नाम के आगे डॉक्टर लग जाता हैं। आपने कई बार देखा होगा कई लोग अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाते हैं और वो असल में मेडिकल डॉक्टर नहीं होते। असल में उन्होंने पीएचडी की होती हैं जिससे उनके नाम के आगे डॉक्टर लग जाता हैं।

पीएचडी एक एक उच्च स्तर के डिग्री हैं जिसे करना उतना आसान नहीं होता। पीएचडी में किसी एक ख़ास विषय पर ही स्टडी की की जाती हैं। और इस कोर्स में आप सीधा एडमिशन नहीं ले सकते हैं। इसे करने के लिए पहले आपको स्कूल के बाद कॉलेज की भी पढाई करनी होती हैं। स्कूल और कॉलेज की स्टडी पूरी करने के बाद ही आप PHD के लिए Apply कर पाएंगे।

अगर आप किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर या लेक्चरर बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपके पास पीएचडी की डिग्री होना जरुरी होता हैं। इसके अलावा पीएचडी करने के बाद आप किसी विषय पर रिसर्च भी कर सकते हैं। Ph.D में किसी एक सब्जेक्ट की ही डिटेल में स्टडी की जाती हैं। जिससे आपको उस सब्जेक्ट का पूर्ण ज्ञान हो जाता हैं यानी आप उस विषय के एक्सपर्ट बन जाते हैं।

  • जिन लडको या लडकियों को पढाई में काफी रूचि हैं उन्ही के लिए ये कोर्स बना हैं। पीएचडी उन लोगो के लिए हैं जो कॉलेज की पढाई पूरी करने के बाद भी कुछ साल और पढाई को दे सकते हैं।
  • अगर आप चाहते हैं की किसी अच्छे College में Professor, Lecturer बनना या फिर आपको किसी एक टॉपिक पे research करनी हैं तो उसके लिए आपको पीएचडी कोर्स करना होता हैं।
  • कुछ ऐसे ही लोग हैं जो पहले से कोई नौकरी कर रहे हैं। वो अपने जॉब में प्रमोशन पाने या अपनी तनख्वाह में बढ़ोतरी के लिए भी पीएचडी करना चाहते हैं। ऐसे लोगो को सरकारी यूनिवर्सिटी से पार्ट टाइम पीएचडी कोर्स करना चाहिए।
  • पीएचडी में दाखिला लेने के लिए आपकी  ग्रेजुएशन (BA/BCOM/BSC) पूरी होनी चाहिए।
  • ग्रेजुएशन के साथ में मास्टर डिग्री भी पूरी होनी चाहिए।
  • PHD में Admission के लिए आपको पहले Entrance Test Pass करना होता हैं जिसके लिए apply करने के लिए आपके minimum 55% मार्क्स होने चाहिए।
  • अगर आप  Engineering में PHD करना चाहते हैं तो आपका एक Valid Gate Score होना चाहिए।
  • पीएचडी यानी डॉक्टर ऑफ़ फिलॉसफी करने से आपके नाम के आगे डॉक्टर लग जाता हैं जो आपके स्टेटस को बढ़ा देता हैं।
  • किसी भी College या University में Lecturer की पोस्ट के लिए PHD की डिग्री होने अनिवार्य होता हैं और जब आपके पास ये डिग्री होती है तो आप ये जॉब प्राप्त कर सकते हैं।
  • पीएचडी एक किसी ख़ास टॉपिक पर ही की जाती हैं। जिस Subject में आप पीएचडी करोगे आप उसके एक्सपर्ट कहलाओगे।
  • ये एक उच्च स्तरीय डिग्री होती हैं जिसकी वजह से पीएचडी करने के बाद बड़ी जॉब के लिए भी अप्लाई करने पर सेलेक्ट होने की संभावना काफी रहती हैं।
  • पीएचडी पूरी होने के बाद आप अपने पीएचडी टॉपिक पर Research कर सकते हैं।

पीएचडी (PHD) कैसे करे : पूरी जानकारी

1. स्कूल और कॉलेज की पढाई

Doctor of Philosophy (Full form of PHD) करने के लिए पहले स्कूल और कॉलेज की पढाई करना जरुरी होता हैं। अगर आप अभी स्कूल में हो और भविष्य में पीएचडी करना चाहते हैं तो वो subject 11th Class में जरुर ले जिसप र आप आगे चलकर पीएचडी करना चाहते हैं। 12th में पास होने के बाद आपको कॉलेज से Graduation करनी होगी और ध्यान रखे ग्रेजुएशन में भी वही सब्जेक्ट जरुर ले।

ग्रेजुएशन के बाद आपको पोस्ट ग्रेजुएशन (मास्टर डिग्री) की पढाई पूरी करनी होगी। आपको कौशिश रहनी चाहिए की ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में आपको 55% से ज्यादा मार्क्स आये। पीएचडी में एडमिशन पाने के लिए आपके कम से कम 55% नंबर जरुर होने चाहिए।

2. Pass UGS Net Test

Post Graduation करने के बाद बारी आती हैं UGS Net Test की। पीएचडी करने के लिए इस टेस्ट को पास करना अनिवार्य होता हैं। PHD entrance test से पहले का ये स्टेप होता हैं जब हमें Net Test को clear करना होता हैं। इस टेस्ट को clear करना आसान नहीं होता। इसलिए आपको इसके लिए कोचिंग भी ले लेनी चाहिए, ताकि यूजीसी टेस्ट आसानी से clear किया जा सके।

3. PHD Entrence Test पास करना

UGS Net Test पास करने के बाद अंतिम स्टेप पीएचडी करने में आता हैं प्रवेश परीक्षा का। जिस भी यूनिवर्सिटी से आपको पीएचडी कोर्स करना हैं उसमे एडमिशन के लिए एक प्रवेश परीक्षा (Entrence Test) होता हैं जिसे clear करने के बाद ही आपका वहा एडमिशन हो पाता हैं।

  • जाने:  आईपीएस कैसे बने
  • पायलट बनने के लिए योग्यता

बहुत से लोगो का ये सवाल रहता हैं की पीएचडी करने में कितने साल लगते हैं और इस कोर्स की फीस क्या हैं? तो दोस्तों पीएचडी की फीस कॉलेज पर भी निर्भर करती हैं। PHD Course करने की फीस हर कॉलेज के लिए अलग हो सकती हैं। आम तौर पर पीएचडी के एक साल की फीस 20 हजार से 30 हज़ार के बीच होती हैं। पीएचडी की डिग्री पूरी करने में 3 साल का समय लगता हैं। इस कोर्स में सेमेस्टर के अनुसार एग्जाम होते हैं जिसमे थ्योरी और प्रेक्टिकल एग्जाम होते हैं।

Popular PHD Courses

  • Phd in Physics
  • Phd in Psychology
  • Phd in Finance & Economics
  • Phd in Mathemetics
  • Phd in Engineering

PHD Degree पूरी करने में कम से कम 2 साल लगते है। हालाँकि अधिकतम समय की कोई सीमा नहीं है। अगर आप सही से पढाई नहीं करते तो आपको पीएचडी पूरी करने में कई साल भी लग सकते है।

एक डॉक्टरेट कार्यक्रम में दाखिले से पहले यूनिवर्सिटी द्वारा आरईटी की परीक्षा ली जाती है जिससे आवेदक की योग्यता का आंकलन किया जाता है। लिखित परीक्षा के जरिए जाना जाता है की आवेदक को उस विषय की अच्छी जानकारी है जिस पर उसे पीएचडी करनी है।

पीएचडी करने के लिए ग्रेजुएशन पूरी होनी जरुरी है। इसके साथ में मास्टर डिग्री न्यूनतम 55% के साथ पास होनी जरुरी है। मास्टर डिग्री भी आपकी उसी विषय में होनी चाहिए जिसमे आपको पीएचडी करनी है।

इंडिया में पीएचडी करने की कोई उम्र सीमा नहीं है। भारत के नागरिक किसी भी उम्र में PHD कर सकते है।

एम फिल और पीएचडी दोनों ही रिसर्च पर आधारित कोर्स होते है। MPHIL एक 2 साल का कोर्स है और PHD को पूरा करने में 3 साल लगते है। PHD में रिसर्च बहुत बारीकी से की जाती है।

  • पढ़े:  SSC Full form और Exam क्या है?

दोस्तों आज के ये एजुकेशनल जानकारी  पीएचडी क्या हैं : What is PHD (Full form & Menain) in Hindi? अगर आपके काम आई हो तो इसे औरो के साथ भी जरुर शेयर करे। P.HD Course की फीस, समय, योग्यता से रिलेटेड सवाल नीचे पूछ सकते हैं।

WHO क्या हैं ? What is WHO Full Form in Hindi

WHO Full Form in Hindi : WHO क्या हैं पूरी जानकारी

News Reporter Anchor कैसे बने

News Reporter और Anchor कैसे बने: योग्यता, कोर्स, फीस पूरी जानकारी

LLB Full Form, Fees, College Admission

LLB कैसे करे: एलएलबी कोर्स फीस, फुल फॉर्म, योग्यता, सिलेबस

Income Tax Officer Inspector kaise bane Salary

Income Tax Officer कैसे बने: SSC CGL Exam, योग्यता, सैलरी, तैयारी

एनडीए NDA full form kya hain in Hindi

एनडीए क्या हैं NDA (Indian Army, Air Force, Navy) Join कैसे करे

GNM Full Form, College Fees, Salary

GNM Course क्या है जीएनएम कैसे करे? Full Form, College Fees, Salary

' src=

About Hindi Use

HindiUse.com एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ पर एक प्रोफेशनल ब्लॉगर की टीम है जो शिक्षा, सामान्य ज्ञान, बैंकिंग, ज्योतिष और अन्य इंटरनेट से संबधित जानकारी हिंदी भाषा में शेयर करते है।

25 thoughts on “PHD क्या है कैसे करे: Full Form, Fees, Subject in Hindi”

Sir mujhe phd ki bare me aur jankari chahiye Taki ki mai ise aur ache se samjh saku

Hme PhD me admission ke liye net karna jruri h kya ya ham bina net admission le sakte h PhD me….. Plz help me…

Hello my name is Manoj .I completed MBA distance so I want to do phd please tell me

आप बिना नैट के भी पीएचडी कर सकते हैं जिसके लिय बहुत से विश्वविद्यालय पीएचडी एंट्रेस एक्जाम कराती हैं। आप एग्जाम क्वालीफाई करिए और एडमिशन लीजिए… इस समय रूहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली में पीएचडी के लिए अप्लाई कर सकते हैं…

Kaise KR sakty ha kitni fees jayegi

Ha jaroori hota hai

Hlo I m a MCA student, ? Can I do PhD degree in IT field. Plz guide me. Thanx.

Hamko PhD krane ke liy kain sa collage lena chahiy Ham politics se kre ge and ap kis subject se kregi

PhD ke liye net pass karna abhi v jaroori hai kya

Sir, Mai b.ed ka student hu.kya mai b.ed k bad p.hd. k liye yogya hu ya nhi? Kirpya mujhe bataye! Sahriday aabhar!

Hi it’s Rashi I’m bsc nursing student.. In what medical subjects I will do phd

do subject se phd karne ke liye kitna minimum time gap hona chahiye?

Hello Sir mera nam Priya Sagar . mai BCA complete kar chuki hu or mujhe PHD karna h to mai BCA k bad kya karu plz hame bataiye .

Sir, college me lecture k liye phd jrui h kya because main ugc net qualify kr liya h

Sir Art Wala student MA kr PhD kr sakta h Kya ya fir sir BA ke bad sidhi PhD kr sakta h. Ya BA ke bad other subject Lena padta h kya

Sir ham PhD karana chahate hi m a education se hai 75/ marks hai fainal me kha se kare

hi, mai MBA HRmarketing ka student hoon kya mai phd kar sakta hoon. Agar ha to kis univercity se karu aur kya fee hogi.

Life science se p.hd kaise Kar skte hai and iski process Kya plz details me aap bta skte hai??

I am BSc 3rd, division and MA(education) 65% kya mai PhD me admission le sakta hun please reply

Hi… Meri graduation mai 51% hai Or PG post graduation mai 58% hai Kya mai PHD kr skti hu.. Please guide me ?

M.Sc. Electronics science से करने के बाद P.hd in Physics कर सकते हैं.

Good morning sir , Sir phd karne ke liye icr form kya hota h plz btaiye aur wo kha se milega n kis student ke liy jruri hota h.

Mai private se M.A. Kiya hai to kya Mai PhD Kar sakati Hu

Sir phd university se hi hota hai na clg me sirf post graduation course hota hai na

Post graduate math se kr chuke hu kam percentage h to m PhD nhi kr sakte hu to mujhe kya chahiye plz tell me

Leave a Comment Cancel reply

Notify me of follow-up comments by email.

Notify me of new posts by email.

29 May, 2024 | 6:39 AM IST

  • Skip to main content
  • Skip to navigation
  • Screen Reader Access
  • About Consultation
  • Consultation Themes
  • Consultation Framework
  • Timelines formulation of NEP
  • Timeline post NEP
  • Learner Centric Education
  • Digital Learning
  • Industry-Institute Collaboration
  • Academic Research and Internationalization
  • Indian Knowledge Systems

Minimum standards and procedures for award of Ph.D. degree regulations, 2022

  • Constitutional Provision
  • Allocation of Business Rules
  • Citizen's Charter
  • Policy Initiatives
  • Advisory Bodies
  • Who's Who
  • Telephone Directory
  • Government Services
  • Covid-19 Campaign
  • YouTube Channel
  • Photo Gallery
  • Archived Photo Gallery

Institutions

  • School Education & Literacy
  • Higher Education
  • Terms & Conditions
  • Privacy Policy
  • Copyright Policy
  • Hyperlink Policy
  • Related Link
  • Accessibility Statement
  • Web Analytics
  • Web Information Manager
  • National Portal
  • Public Grievances

Open Government Data Platform India

Content of this website is owned and managed by D/o Higher Education, Ministry of Education. This site is designed, developed, hosted and maintained by National Informatics Centre (NIC), Ministry of Electronics & Information Technology, Government of India. Copyright 2021. All Rights Reserved.

Follow us on:

Digital India Awards 2016 - Platinum Icon

Supports:    Firefox 2.0+    Google Chrome 6.0+    Internet Explorer 8.0+    Safari 4.0+

PhD Full Form Meaning in Hindi

PhD Kya Hota Hai? पीएचडी कैसे करें? Ph.D Full Form Meaning in Hindi

आपने कई लोगों को आपने नाम के पहले Dr (डॉक्टर) लिखते हुए देखा होगा, और असल में वे डॉक्टर होते भी नहीं है। सामान्यतः डॉक्टर का मतलब हम चिकित्सक समझते हैं, जो मेडिकल डॉक्टर होता है। और जो लोग बिना डॉक्टरी किए Dr का प्रयोग करते हैं तो वो doctorate degree होता है, जो PhD करने के बाद आपको मिलती है। आइए जानते हैं कि PhD Kya Hota Hai? PhD Kaise Kare?

Table of Contents

PhD Full Form in Hindi

PhD का full form होता है Doctor of Philosophy जिसे संक्षेप में D.Phil भी कहा जाता है।

Ph.D Kya Hota Hai?

PhD एक उच्च स्तर की डिग्री कोर्स है जिसमें आपको किसी एक विषय में संपूर्ण ज्ञान दिया जाता है यानी आप उस विषय में गहन अध्ययन करते हैं। इस doctorate degree कोर्स को करने के बाद आप किसी एक विषय में expert बन सकते हैं। इसको पूरा करने में 3-5 साल का समय लगता है।

Ph.D करने के लिए आपने जिस भी विषय में Master Degree प्राप्त किया है उसी विषय में आप PhD करें ताकि आपको आगे किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी। इसकी परीक्षा को UGC NET  द्वारा आयोजित किया जाता है।

Educational Qualification for PhD   Course

पीएचडी करने के लिए स्नातक या मास्टर की डिग्री होना जरूरी है जिसमें कम से कम 60% मार्क्स होना अनिवार्य है। सभी कॉलेजों में अलग – अलग मार्क्स माँगे जाते हैं। तथा College और University के द्वारा आयोजित की जानेवाले प्रवेश-परीक्षा को पास करना होगा।

PhD में Admission कैसे लें?

PhD कोर्स में एडमिशन प्राप्त करने के लिए College तथा University के द्वारा प्रवेश परीक्षा आयोजित किया जाता है। अगर आपको PhD में नामांकन करवाना है तो आपको इस प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होगा। इस परीक्षा में भाग लेने के लिए आपको Online Apply करना है। परीक्षा में भाग लेने के बाद आपके नंबर के अनुसार आपको College दिया जाएगा। यदि आपको सरकारी College में नामांकन करवाना है तो आपको प्रवेश परीक्षा में आच्छे नंबर से पास होना पड़ेगा।

Ph.D Course List 

Phd ki fees kitni hai.

अगर आप किसी सरकारी कॉलेज से इस कोर्स को करते है तो लगभग 50 – 70 हजार रुपये के बीच में लग सकती हैं लेकिन यदि हम प्राइवेट कॉलेज की बात करे तो सभी कॉलेज की फीस अलग-अलग कोर्स कर अनुसार लिया जाता है लेकिन एक अनुमानित औसत के अनुसार Private College की फीस लगभग 2-3 लाख रुपये है।

Career Options after PhD

PhD करने के बाद आपके सामने करियर बनाने के बहुत सारे विकल्प मिल जाते है जिसमें आप अपना भविष्य बना सकते हैं। इस कोर्स को करने के बाद सबसे ज्यादा माँग प्रोफेसर की जॉब में होती है। इसके साथ रिसर्च सेंटर में भी नौकरी कर सकते हैं। इसके साथ ही इस कोर्स को करने के बाद आप सरकारी पद पर सलाहकार विभाग में भी कम कर सकते हैं।

PhD Karne ke Phayde

  • PhD करने के बाद आप किसी एक विषय में expert बन सकते हैं।
  • Ph.D एक उच्च स्तर की डिग्री कोर्स है जिसे पूरा करने के बाद आपको आसानी से नौकरी मिल जाती है।
  • इस कोर्स को करने के बाद आपके नाम के आगे Dr. लग जाता है जिससे आपको समाज में काफी सम्मान मिलता है।
  • पीएचडी की डिग्री आपको किसी ख़ास विषय में गहन अध्ययन करने के बाद मिलती है, तो इस प्रकार आप उस विषय में माहिर बन जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: JNU me Admission Kaise Milta Hai?

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai

आज के इस लेख के माध्यम से हम जाने वाले हैं कि “पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai” तथा पीएचडी करने की न्यूनतम और अधिकतम समय कितना लगता है।

पीएचडी से संबंधित सभी प्रकार के सवालों का जवाब आज हम जानने वाले हैं जैसे :- पीएचडी क्या है? तथा कौन-कौन पीएचडी कर सकता है? और पीएचडी करने में कितने पैसे खर्च होते हैं?

पीएचडी (PhD) का अर्थ डॉक्टर ऑफ़ फिलॉसफी (Doctor of Philosophy) है, जिसे संक्षिप्त में पीएचडी कहा जाता है, इस कोर्स को करने के बाद आप के नाम के आगे डॉ (Dr.) शब्द सम्मिलित हो जाता है। यह एक डाक्टरल डिग्री (Doctoral Degree) है। 

पीएचडी विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदत उच्च शैक्षिक डिग्री होती है पीएचडी का फुल फॉर्म डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी  (Doctor of Philosophy) होता है। 

पीएचडी एक स्नातकोत्तर (Postgraduate) डॉक्टरेट (Doctoral) की डिग्री है, जो उन छात्रों को प्रदान की जाती है जो अपने विषय में ज्ञान के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान देने वाले एक प्रमुख शोध को पूरा करने की पुर्णतः कोशिश करते है। 

पीएचडी करने के लिए आपके पास मास्टर डिग्री होनी चाहिए दुसरे शब्दों में कहे तो आपकी Post Graduation पूरी होनी चाहिए।  Post Graduation डिग्री में आपके मार्क्स 60% के आस पास होने चाहिए। तभी आप पीएचडी करने के योग्य होते हैं। 

शिक्षा के क्षेत्र में महानता हासिल करना अपने आप में एक अनोखा काबिलियत है, PhD एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा शिक्षण शैली में महानता प्राप्त करने का अवसर मिलता है, आप पीएचडी करके शिक्षण शैली में महंत प्राप्त कर सकते हैं। 

इस डिग्री को प्राप्त करने के कई अवसर मिलते हैं,  कभी-कभी महान उद्देश्य को पूरा करने के बाद इस डिग्री से उम्मीदवार को नवाजा जाता है और कोर्स के माध्यम से भी किसी विशेष क्षेत्र में PhD की डिग्री प्राप्त किया जा सकता है। 

पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai | PhD Course Ki Fees Kitni Hoti Hai | PhD ki Taiyari Kaise Kare | PhD Kaise Karen | PhD Ke Liye Yogyata | PhD Ke Baad Career Option | 

यह एक सर्वोच्च डिग्री होने के साथ-साथ किसी विषय में विशेषज्ञ होने का अवसर प्रदान करता है, लेकिन इस डिग्री को प्राप्त करने के लिए कुछ नियम एवं शर्तें होते हैं, जो उम्मीदवार इस नियम को पूरा करते हैं उन्हें ही यह डिग्री के योग्य माने जाते हैं।

कैरियर के दृष्टिकोण से देखा जाए तो पीएचडी सबसे महत्वपूर्ण कोर्स में से एक माना जाता है, क्योंकि इस उपाधि से सम्मानित उम्मीदवार किसी विशेष विषय विशेषज्ञ हासिल किए हुए होते हैं, इसलिए किसी विशेष बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करना उनकी प्राथमिकता होती है।

यदि आपको किसी महाविद्यालय या विश्वविद्यालय में एक प्रोफेसर बनना है, तो आपके पास यह डिग्री होना अनिवार्य है, इस डिग्री के बगेर आप प्रोफेसर नहीं बन सकते हैं। 

आप इस डिग्री के बाद रिसर्च या फिर एनालिसिस भी कर सकते है, इस डिग्री करने के उपरांत आप उस विषय के एक्सपर्ट कहलायेंगे आपको उस विषय के बारे में पूरा ज्ञान हो जायेगा। 

अक्सर लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि “पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai” क्योंकि पीएचडी करने की सटीक जानकारी उनको नहीं मिल पाती है।

आज के इस लेख के माध्यम से हम टीचर बनने की प्रक्रिया को स्टेप बाय स्टेप बताने का प्रयास किए हैं, आप इस लेख को पूरा पढ़े ताकि आपको बारीकी से जानकारी मिल पाए।

Table of Contents

पीएचडी कोर्स की अवधि का बात किया जाए तो आमतौर पर पीएचडी कोर्स 3 साल की होती है, जिसमे छः सेमेस्टर होते हैं, जिसमे उम्मीदवारों को अधिकतम छः साल के अंतराल में कोर्स पूरा करना होता है, अर्थात विद्यार्थी छः साल तक इस को पूरा कर सकता है।

पीएचडी कोर्स की अवधि हर जगह अलग-अलग हो सकती है जो पूरी तरह से इंस्टिट्यूट और सिलेबस पर निर्भर करता है।

पीएचडी करते समय यह सुविधा भी दी जाती है कि हम अपने इस 3 साल के कोर्स को 6 साल तक भी खत्म कर सकते हैं। इस कोर्स को करने में हमें हर टॉपिक के विषय में डिटेल में रिसर्च करने को मिलता है, जिससे हमारा जड़ बहुत ही मजबूत हो जाता है और बड़ी ही आसानी से किसी भी टॉपिक को सॉल्व करने के लिए सक्षम हो जाते हैं।

PhD Course Highlights

जरुर पढ़ें :- गणित में कौन कौन सी जॉब होती है?

PhD कोर्स की फ़ीस कितनी होती है ( PhD Course Ki Fees Kitni Hoti Hai)

पीएचडी कोर्स की फीस की बात की जाए तो इसकी फीस इंस्टिट्यूट एवं संस्थान के आधार पर अलग अलग होती है,  सरकारी संस्थान की फ़ीस प्राइवेट इंस्टिट्यूट की तुलना में कम होता है। 

पीएचडी कोर्स मुख्यतः 3 वर्ष का कोर्स होता है जो  6 सेमेस्टर में बटा होता है।  कॉलेज, इंस्टीट्यूट इस कोर्स की फीस समेस्टर या  वार्षिक अवधी का अनुशार मांग करते हैं। 

प्राइवेट इंस्टिट्यूट में पीएचडी कोर्स की  न्यूनतम फ़ीस 20000 रुपये  से 30000 रुपये के करीब तथा अधिकतम फ़ीस 30000 रुपये से 50000 रुपये के बीच होता है। 

जबकी सरकारी संस्थान में न्यूनतम फ़ीस 15000 रुपये से 25000 रुपये के बीच तथा अधिकतम फ़ीस 40000 रुपये से 60000 रुपये तक होता है। 

जरुर पढ़ें :- 12 वीं के बाद कंप्यूटर कोर्स सूची

पीएचडी की तैयारी कैसे करें (PhD ki Taiyari Kaise Kare)

आपको Phd की तैयारी करने के लिए कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखना होगा। इससे आपको पीएचडी करने में काफी मदद मिलेगी, और पीएचडी को आप आसानी से कर सकेंगे।

  • पीएचडी की तैयारी करने के लिए सबसे पहले प्रीवियस ईयर पेपर खरीदें आप उन पेपरों के जरिए यह जान सकते हैं, कि पीएचडी में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • आप उनकी सहायता ले सकते हैं, जिन्होंने पहले से पीएचडी कर चुके हैं या जो पीएचडी कर रहे हैं, उनसे आपको बहुत कुछ सीखने को मिल सकता है।
  • अपने पीएचडी के विषय के बारे में हमेशा जानने की इच्छा रखें और उस विषय से संबंधित सभी प्रकार के पहलुओं को बारीकी से जाने और उन पर हमेशा रिसर्च करते रहें।
  • आप अपने विषय के अनुसार अपना तैयारी को बढ़ा सकते हैं आपका विषय यदि करंट अफेयर्स है तो आप अखबार पढ़ सकते हैं और करंट नॉलेज को बढ़ा सकते हैं।

जरुर पढ़ें :- जीएसटी में करियर कैसे बनाएं 

पीएचडी कैसे करें (PhD Kaise Karen)

किसी भी तरह की डिग्री करने के लिए आपको 12th पास होना जरूरी होता है। इसके लिए आपको 10th पास करने के बाद वही सब्जेक्ट को चुनना चाहिए, जिस सब्जेक्ट्स में आप पीएचडी करना चाहते है। 

आपको नीचे स्टेप बाई स्टेप बताने का प्रयास किए हैं कि पीएचडी कैसे करें आप पूरा पढे ताकि क्लेयर समझ पाए जो कि निम्नलिखित है। :-  

  • आपको अपने इन सब्जेक्टस में 11th और 12th में अच्छे अंकों के साथ पास होना है। आपके जितने मार्क्स ज्यादा होंगे उतनी ही आपको आगे पीएचडी करने में आसानी होगी और मदद मिलेगी।
  • जब आप अपनी 12th पूरी कर लेते हैं। फिर आपको जिस सब्जेक्ट में रूची हो उस सब्जेक्ट के लिए प्रवेश परीक्षा दें और इस एंट्रेंस एग्जाम को पूरा करें। फिर इसके बाद अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करें। 
  • आपको जिनता हो सके अच्छे अंकों के साथ पास होना है। जिनते अंक ज्यादा होंगे आपके लिए पीएचडी के लिए रास्ते उतने ही आसान बनते रहेंगे, क्युकी मेरिट लिस्ट मार्क्स के आधार पर ही निकाल जाता है।
  • जब आपकी स्नातक पूरी हो जाती है तब फिर आपको पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए अप्लाई करना है। आपने जिस सब्जेक्ट में स्नातक की है, यदि आप उस सब्जेक्ट में ही अपनी मास्टर डिग्री करते हैं तो आपके लिए आसानी रहेगी।
  • आपको अपनी स्नातक और मास्टर डिग्री में कम से कम 60% तक अंक लाने है ताकि आगे एंट्रेंस एग्जाम के लिए कोई समस्या न हो और एन्ट्रन्स इग्ज़ैम के लिए एलीजिबल हो पाए।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी हो जाती है तो आपको अब UGC Net Test देना होता है और आपको इसे क्लियर करना बहुत ही जरूरी होता है। इस एग्जाम के लिए आप कोचिंग भी ले सकते हैं। 
  • ये प्रवेश परीक्षा थोड़ी कठिन होती है। UGC Net Exam पहले नहीं होता था। लेकिन अब पीएचडी करने के लिए इसे क्लियर करना अनिवार्य कर दिया गया है।
  • आप इस एग्जाम को क्लियर कर देते हैं तो आप पीएचडी के योग्य हो जाते हैं। अब आपको जिस कॉलेज या विश्वविद्यालय में पीएचडी करनी है, उस विश्वविद्यालय का एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करके आप पीएचडी में दाखिला ले सकते हैं।

जरुर पढ़ें :- 12वीं के बाद शिक्षक (Teacher) कैसे बने?

पीएचडी कोर्स करने के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटी

यदि आपने अपने अच्छे मार्क्स के साथ ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन कम्पलीट कर चुके है और एक अच्छी यूनिवर्सिटी से पीएचडी कोर्स करना चाहते है तो आपके लिये नीचे दी गयी यूनिवर्सिटी सबसे बेस्ट है, आप नीचे दिए कॉलेज/यूनिवर्सिटी में पीएचडी के लिए अप्लाई कर सकते है, जो कि निम्नलिखित है। :-

  • इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी बैंगलोर
  • जवाहर लाल यूनिवर्सिटी
  • अमिती यूनिवर्सिटी नोएडा
  • के.सी.जी. कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी चेन्नई

ऊपर दिए गए चार भारत की टॉप यूनिवर्सिटी में से हैं इस यूनिवर्सिटी में आप पीएचडी कर सकते हैं यूनिवर्सिटीओं में बहुत सारी सुविधाएं मिलती है जिससे आपको पीएचडी करने में आसानी होती है।

आप जल्दी पीएचडी करने का सोच रहे हैं तो आपको पीएचडी सरकारी कॉलेज या यूनिवर्सिटी से करना चाहिए क्योंकि उसमें कोर्स फी बहुत कम होती है और आसानी से अब कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :- साइंस में कौन-कौन सी जॉब होती है? 

पीएचडी के लिए योग्यता (PhD Ke Liye Yogyata)

पीएचडी के जो सब योग्यता चाहिए वो निम्नलिखित है:- 

  • सबसे पहले पोस्ट ग्रेजुएशन पास करें।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन में 55% नंबर या इससे अधिक होने चाहिए।
  • आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को 5% की छूट मिलती है।
  • हर यूनिवर्सिटी के लिए मिनिमम परसेंट में थोड़ा-बहुत अंतर हो सकता है।
  • पीएचडी की कोई एज लिमिट नहीं है, कभी भी आप पीएचडी कर सकते है।
  • आप अपने मास्टर के सब्जेक्ट में ही पीएचडी कर सकते हैं।

इनके अलावा भी कुछ क्वालिटीज होना जरूरी है जैसे कि :- आपकी पढ़ाई में रुचि होनी चाहिए। पीएचडी कोई साधारण एग्जाम नहीं है जिसमें आप किसी कुंजी (guide) से उत्तर रटकर पासिंग मार्क्स ले आएंगे। इसके लिए बहुत ज्यादा पढ़ना होता है।

अगर आपका मन किताबों में नहीं लगता तो यह फील्ड आपके लिए नहीं है। इसके साथ-साथ धैर्य होना जरूरी है। पीएचडी में आपको कम से कम तीन साल लगते हैं। इसीलिए ये सोचकर ही कदम बढ़ाएं कि आप इतना समय दे सकते हैं।

पीएचडी करना एक जिम्मेदारी का कोर्स होता है अर्थात इसमें आपको रिसर्च से संबंधित सभी प्रकार का ज्ञान दिया जाता है और साथ ही किसी नए तथ्यों की खोज करने का भी ज्ञान दिया जाता है।

यही कारण है कि इस कोर्स को करने में 3 साल का समय रहता है लेकिन अधिक से अधिक 6 साल तक भी लग सकता है और 6 साल तक भी आप इस कोर्स को कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :- कॉमर्स में कौन-कौन सी जॉब होती है?

पीएचडी के बाद करियर ऑप्शन (PhD Ke Baad Career Option)

दोस्तों पीएचडी जितनी मेहनत का काम है, इसका फल भी इतना ही मीठा होता है। भले ही आप PhD करके एक लंबा समय बिता देते हैं। लेकिन एक बार इसे पूरा करने पर आपका भविष्य उज्जवल होता है।

PhD करने के बाद आपको बहुत फायदे है। PhD के बाद अगर आप चाहें तो टीचिंग में अच्छा करियर बना सकते हैं।

PhD करके आप यूनिवर्सिटीज और कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर जैसे बड़े पद पर काम करते हैं, आगे जाकर आप प्रोफेसर भी बन सकते हैं।

आपकी सैलरी और भत्ते एक टीचर की तुलना में काफी अच्छा होते हैं। सामाजिक रुतबा भी बहुत ज्यादा होता है क्यूंकि इसमें उनके नाम के आगे अक्सर डॉक्टर लगा होता है।

पीएचडी के बाद ऊपर दिए गए करियर ऑप्शंस के अलावा  भी बहुत सारे सेक्टर है जहां पीएचडी करके अच्छा करियर आप बना सकते हैं।

जरुर पढ़ें :- पीसीएस (Pcs) में कौन कौन सी पोस्ट होती है

पीएचडी करने के लिए एडमिशन कैसे लें ?

PhD में एडमिशन लेने के लिए सबसे पहले आपको एन्ट्रेंस एग्जाम देना होता है। इसमें सबसे पहले नाम आता है UGC NET का। साइंस के स्टूडेंट CSIR UGC NET exam देते हैं।

एक और एग्जाम होता है जिसे GATE कहते हैं। अगर आप इंजीनियरिंग से जुड़े सब्जेक्ट से पीएचडी करना चाहते हैं तो आप यह एग्जाम दे सकते है।

कुछ यूनिवर्सिटीज और इंस्टीट्यूट अपनी तरफ से प्रवेश परीक्षा भी लेते हैं। जैसे JNU PhD entrance, BHU RET, TIFR (टाटा इंस्टीट्यूट के लिए), BITS (बिड़ला इंस्टीट्यूट), AIIMS, BARC (भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर)।

एंट्रेंस एग्जाम पास होने के बाद इंटरव्यू होता है। 

इन्टरव्यू में जो कैंडिडेट्स सलेक्ट होते हैं उनको पीएचडी में एडमिशन मिल जाता है। कुछ यूनिवर्सिटीज NET या GATE एग्जाम पास करने पर डायरेक्ट एडमिशन दे देती हैं लेकिन सभी यूनिवर्सिटी ऐसे नही करती है।

ये सभी एग्जाम बहुत मुश्किल होते हैं। लेकिन अगर आप पूरी मेहनत से तैयारी करें तो सब कुछ आसान हो जाता है। 

सलेक्शन के बाद आपको एक गाइड या सुपरवाइजर के अंडर पीएचडी करनी होती है। वो आपको गाइडलाइन, कोर्स की पूरी जानकारी दे देते हैं। उसके मुताबिक आपको स्टडी करनी होती है।

इस दौरान आपको सेमिनारों में भाग लेना होता है। अपने रिसर्च पेपर पब्लिश करने होते हैं और कई तरह की एकेडमिक गतिविधियों में भाग लेना होता है।

उपरोक्त दिए गए सभी तथ्यों को उसके बाय स्टेप बाप पढ़ेंगे तो आपको पता चल जाएगा कि पीएचडी करने के लिए एडमिशन कैसे लें।

यह भी पढ़ें :- टीचर बनने के लिए क्या करें

दोस्तों, हम उम्मीद करते है कि आज के इस लेख (article) के माध्यम से आप लोग समझ गए होंगे कि “पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai” जिसकी पुरी जानकारी इस लेख के माध्यम से देने का कोशिश किए हैं।

यदि आपको यह जानकारी “पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai” अच्छी लगी हो तो आप  WhatsApp, Facebook के जरिये Share भी कर सकते हैं, ताकि और भी लोगों को यह जानकारी मिल पाए।

आपके मन में यदि कोई सवाल एवं सुझाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे पूछ सकते हैं, जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास किया जाएगा, धन्यवाद।

यह भी पढ़ें :-

  • बैंक में कौन-कौन सी जॉब होती है?
  • इंफोसिस क्या है?
  • इसरो में वैज्ञानिक कैसे बने?
  • डाटा एंट्री कोर्स कितने साल का होता है

इस लेख में हमने जाना :-

पीएचडी कितने साल की होती है | PhD Kitne Saal Ki Hoti Hai | PhD Course Ki Fees Kitni Hoti Hai | PhD ki Taiyari Kaise Kare | PhD Kaise Karen | PhD Ke Liye Yogyata | PhD Ke Baad Career Option | 

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Naukriejob.com

PhD ke Liye Qualification, PhD Kaise Kare? पीएचडी की फीस कितनी है?

पीएचडी (PhD), ‘ डाक्टरल डिग्री ‘ कोर्स है, जो 3 वर्ष का होता है. इस कोर्स की डिग्री प्राप्त करने के बाद आप अपने नाम के आगे डॉ. लगा/ लिख सकते हैं. PhD का फुल फॉर्म ‘Doctor of Philosophy’ होता है. इस कोर्स को करके किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में  प्रोफ़ेसर रूप में करियर बना सकते हैं. तो आज हम जानेंगे PhD Kaise Kare? के बारे में.  PhD ke Liye Qualification क्या होना चाहिए?

पीएचडी (PhD) क्या होता है?

PhD का फूल फॉर्म  ‘ Doctor of Philosophy ‘ होता है. हिंदी में इसे विद्या चिकित्सक कहते हैं. पीएचडी उच्च डिग्री शिक्षा है, इस कोर्स को करने के बाद डॉक्टर की उपाधि मिलती है. जो व्यक्ति इस डिग्री कोर्स को करता है, पीएचडी डिग्री मिलने के बाद वह अपने नाम के आगे Dr. लिख सकता है.जैसे अगर आपका नाम मोहन है, डॉ. मोहन लिख सकते हैं.

यह केवल डॉक्टर की उपाधि होती है, ये मत समझ लीजियेगा कि पीएचडी डिग्री करने वाले सभी व्यक्ति हॉस्पिटल में मरीज का इलाज करने वाले डॉक्टर बन जाते हैं. ऐसा नहीं है, यह केवल एक Doctoral Degree है.

  • पीएचडी की पढाई करके, किसी विषय के विशेषज्ञ (Specialist) बन सकते हैं.
  • किसी विषय के विशेषज्ञ (phd) की डिग्री प्राप्त करने के बाद किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर या लेक्चरर के रूप शिक्षण कार्य कर सकते हैं.
  • Lecturer के रूप में कार्य का अनुभव होने के बाद किसी विषय पर शोध भी कर सकते हैं.
  • पीएचडी डिग्री करने वाले व्यक्ति ही आगे जाकर किसी विषय पर रिसर्च ( Research ) करते हैं. 

PhD ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक डिग्री (Graduation) 55% अंकों में उत्तीर्ण हो.
  • और मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातकोत्तर डिग्री (Post Graduation) 55% अंकों में उत्तीर्ण हो.
  • जिस विषय में ग्रेजुएशन किये हो, उसी विषय में पोस्ट-ग्रेजुएशन डिग्री होनी चाहिए.

पीएचडी करने के लिए क्या करें?

  • पीएचडी करने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से बारहवीं कक्षा (10+2) पास करें.
  • अपनी रूचि के अनुसार किसी भी स्ट्रीम में इंटरमीडिएट पास कर सकते हैं.
  • उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी विषय में स्नातक (Graduation) डिग्री कम से कम 55% अंकों में पास करें.
  • फिर जिस विषय में Graduation किये हो, उसी विषय में स्नातकोत्तर ( Post Graduation ) डिग्री उत्तीर्ण करें.
  • पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री कम से कम 55% अंक होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: SBI PO ke Liye Qualification: SBI PO Kaise Bane?

PhD Kaise Kare?

  • पीएचडी करने के लिए सबसे पहले मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक (Graduation) डिग्री 55% अंकों में उत्तीर्ण करें.
  • उसके बाद मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातकोत्तर (Post Graduation) डिग्री कम से कम 55% अंकों में उत्तीर्ण करें.
  •  जिस विषय में ग्रेजुएट हैं, उसी विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन करें.
  • पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद PhD में एडमिशन के लिए Entrance Exam पास करना होगा.
  • कई कॉलेज UGC NET Entrance Exam के माध्यम से एडमिशन लेती है और कुछ कॉलेज नामांकन के लिए खुद एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करती है.
  • जिस कॉलेज से पीएचडी करना चाहते हैं, उस कॉलेज से सम्बंधित प्रवेश परीक्षा पास करना होगा.
  • Entrance Exam पास करने के बाद इंटरव्यू पास करना होगा.
  • इंटरव्यू पास करने के बाद PhD में एडमिशन लेना होगा.
  • और 3 वर्ष तक अच्छे से पढाई करनी होगी.
  • तीन वर्षीय पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद डिग्री मिलेगी.
  • पीएचडी डिग्री में Doctor का उपाधि मिलेगी.
  • उसके बाद आप अपने नाम के आगे Dr. लिख सकते हैं.

पीएचडी की फीस कितनी है? 

पीएचडी की फीस प्रतिवर्ष 20 हजार से 30 हजार रूपये के बीच होता है. तीन वर्षों में कुल 60 हजार से 1 लाख रूपये तक लग सकता है. पीएचडी कोर्स की फीस कॉलेज पर निर्भर करती है. सभी कॉलेजों में फीस अलग-अलग होता है.

पीएचडी के बाद क्या करें?

  • पीएचडी करने के बाद किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के रूप में करियर बना सकते हैं.
  • अनुसन्धान के क्षेत्र में कार्य कर सकते हैं.
  • किसी विषय में रिसर्च कर सकते हैं.
  • डेवलपमेंट सेंटर या मेडिकल रिसर्च में कार्य कर सकते हैं.
  • लॉ ( Law ) सब्जेक्ट में पीएचडी करते हैं, तो आप किसी सरकारी विभाग में एडवाइजरी के पद पर कार्य कर सकते हैं.
  • केमिस्ट्री में PhD करने के बाद केमिकल रिसर्च सेंटर एंड लेबोरेट्री एनालिस्ट में नौकरी कर सकते हैं.

CTET (सीटेट) ki Taiyari Kaise Kare? CTET ke Liye Qualification 

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

phd ke bad ki degree

  • Denna sida på svenska
  • Utbildning startsida
  • ki.se startsida

Doctoral student Mansoureh Shahsavani and Associate professor Anna Falk in a laboratory

Doctoral education at Karolinska Institutet

Welcome to a University with focus on doctoral education! World-class research and specialised research environments create a breeding ground for doctoral (PhD) studies at Karolinska Institutet (KI).

Menu for this area

phd ke bad ki degree

Available positions for doctoral education

Doctoral education positions at Karolinska Institutet are advertised continuoulsy and we welcome your application.

zöädc,öä

For current doctoral students at KI

Doctoral students and employees at Karolinska Institutet can find more information about the doctoral education and the resources needed in the every day working life within the university at the Staff portal.

phd ke bad ki degree

Course catalogue and course vacancies

Karolinska Institutet offers a large number of doctoral courses for our current doctoral students every semester, look for the one that fits you and find vacancies in the course catalogue.

phd ke bad ki degree

Blogging about research and career

Interested in life as a researcher? Follow doctoral students, postdocs, researchers and alumni blogging for KI Career Service on the Researcher blogs.

Outdoor fika. Photo: Simon Paulin / imagebank.sweden.se

Study in Stockholm

The official guide on what Stockholm has to offer international students.

Happy co-workers in conversation

International staff

KI offers support service for international doctoral students. Here you can find all kinds of necessary information for your stay in Sweden and KI.

Doctoral education - available positions

hindishouter.in

पीएचडी करने के बाद सैलरी : जानें PhD Ke Baad किस स्तर पर कितनी सैलरी

पीएचडी (Doctor of Philosophy) एकेडमिक स्तर पर प्रदान की जाने वाली सर्वोच्च डिग्री है। पीएचडी के बाद सम्बन्धित विषय क्षेत्र में बहुत से करियर ऑप्शन होते हैं। जिनमें विभिन्न जॉब प्रोफाइल पर बेहतरीन करियर बना सकते हैं। पीएचडी करने के बाद सैलरी मुख्यतः जॉब प्रोफाइल, एक्सपीरियंस और रोजगार के क्षेत्र (प्राइवेट / गवर्नमेंट) पर निर्भर करती है।

पीएचडी के बाद बेहतरीन करियर अवसर उपलब्ध होते हैं, जिनके लिए समय से अपडेट रहना बहुत जरूरी होता है। यहां पर पीएचडी करने के बाद सैलरी सम्बन्धित सम्पूर्ण जानकारी दी गई है। साथ ही यह भी बताया गया है कि आपके विषय सम्बन्धित क्षेत्र में जॉब, करियर के क्या अवसर हैं तथा आपके लिए कौन सा ऑप्शन बेस्ट रहेगा?

पीएचडी करने के बाद सैलरी कितनी मिलती है?

पीएचडी करने के बाद सैलरी ₹40000 से ₹150000 प्रति माह हो सकती है। जोकि बेसिक सैलरी है। पीएचडी के बाद सैलरी सबसे ज्यादा जिन फैक्टर्स पर निर्भर करती है वे हैं – चयनित विषय, जॉब प्रोफाइल, एक्सपीरियंस और रोजगार के क्षेत्र (प्राइवेट / गवर्नमेंट)।

पीएचडी करने के बाद गवर्नमेंट सेक्टर में प्राइवेट सेक्टर के मुकाबले ज्यादा सैलरी मिलती है। पीएचडी करने के तुरंत बाद आप अपनी पसंद अनुसार रिसर्च फील्ड, टीचिंग या स्पेशलाइजेशन (विषय) के आधार पर अन्य जॉब प्रोफाइल के साथ अपना करियर शुरू कर सकते हैं। अलग अलग स्पेशलाइजेशन से पीएचडी करने के बाद करियर ऑप्शन और उनमें सैलरी के बारे में आगे जानेंगे।

पीएचडी करने के तुरंत बाद PhD फ्रेशर्स की कुछ जॉब प्रोफाइल पर मिलने वाली सैलरी को टेबल के माध्यम से दिखाया गया है।

किसी भी जॉब प्रोफाइल में शुरुआत में तो कम सैलरी हो सकती है, लेकिन एक्सपीरियंस के अनुसार पीएचडी धारक की सैलरी में बहुत ज्यादा इज़ाफा होता है। 10 से 15 वर्ष के एक्सपीरियंस के बाद पीएचडी धारक की वार्षिक सैलरी 15 से 30 लाख रुपए तक हो सकती है।

पीएचडी के बाद स्पेशलाइजेशन अनुसार जॉब प्रोफाइल और सैलरी

आप इंटरेस्ट अनुसार विभिन्न विषय में पीएचडी कर सकते हैं, लेकिन एक अच्छी जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज के लिए पीएचडी में सही विषय का चुनाव अहम भूमिका निभाता है। यदि आप जानना चाहते हैं कि आज के समय में किस विषय से पीएचडी करना ज्यादा फायदेमंद है तो जरूर पढ़ें – पीएचडी सम्बन्धित प्रत्येक जानकारी

किसी भी फील्ड में पीएचडी धारक को ग्रेजुएट या मास्टर्स के मुकाबले ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है, क्योंकि PhD धारक को उसके फील्ड की बेहतरीन समझ होती है। उसमे क्रिटिकल परिस्थिति में भी बेहतरीन उपाय खोजने की स्किल होती है। वह टेक्निकल या नॉन टेक्निकल तरीके से अपने उपायों को बेहतर तरीके से प्रेजेंट कर सकता है।

पीएचडी करने के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर की सैलरी कितनी होती है?

NET/ JRF के बाद आप असिस्टेंट प्रोफेसर बनते हैं। जिसकी सैलरी 4 से 7 लाख रुपए प्रति वर्ष हो सकती है। लेकिन पीएचडी करने के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर से एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर के रूप में प्रमोशन मिलता है। गवर्नमेंट सेक्टर में एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर की कुल सैलरी (सरकारी भत्ता सहित) लगभग 15 से 25 लाख रुपए तक हो सकती है।

पीएचडी छात्रों को कितना पैसा मिलता है?

भारत में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों से लेकर भारतीय मंत्रालय और संगठन पीएचडी स्कॉलरशिप और रिसर्च फेलोशिप की सुविधा प्रदान करते हैं। जिनके अपने अपने नियम निर्धारित हैं। पीएचडी स्कॉलरशिप या फेलोशिप की रकम कॉलेज, संगठन आदि के अनुसार भिन्न होती है। यह रकम ₹10000 प्रतिमाह से लेकर ₹40000 प्रति माह हो सकती है या 50 से 70 हजार रुपए प्रति वर्ष हो सकती है।

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

  • Skip to primary navigation
  • Skip to main content
  • Skip to primary sidebar
  • Skip to footer

SMI Logo

पीएचडी (PhD) क्या है और कैसे करे ? (PhD full form)

May 6, 2024 by: Jamshed Khan

एक समय था जब पढ़ाई को लेकर लोगों में कोई चिंता नहीं थी लेकिन आज हर कोई पढ़ाई में दिलचस्पी रखता है। आज हर कोई अपने करियर को लेकर चिंतित है क्योंकि पढ़ाई के क्षेत्र में कॉम्पीटिशन इतना बढ़ गया है कि, विद्यार्थियों के लिए किसी भी क्षेत्र में करियर बनाना आसान नहीं रहा है। आज के टाइम सभी को एक अच्छी नौकरी चाहिए, जिससे वे अपना खर्चा चला सके साथ ही अपने भविष्य को उज्जवल बना सके। यही बात ध्यान में रखते हुए आज हम स्टूडेंट्स को PHD के बारे में बता रहे हैं। यह एक ऐसा डिग्री कोर्स है जिसे करके छात्र अपने करियर को बेहतर बना सकते हैं। आईये जानते हैं कि, पीएचडी क्या है, कैसे करे , पीएचडी की फुल फॉर्म क्या होती है, इसके लिए योग्यता क्या होना चाहिए, PHD fees, कितने साल का होता है, पीएचडी करने के बाद विद्यार्थी के पास करियर विकल्प क्या होते हैं आदि।

PhD kya hai or kaise kare

आज के समय में यह एक ऐसा कोर्स है जो bright future के लिए सबसे ज्यादा लोकप्रिय माना जाता है। आपको बता दें, अगर आप PHD की डिग्री हासिल कर लेते हैं तो आपके नाम के आगे Dr लग जाता है। आपने कई ऐसे लोगों को देखा होगा जिनके नाम के साथ डॉक्टर लगाया जाता है जोकि गर्व महसूस कराता है और समाज में भी हमें सम्मान मिलता है।

यदि आप भी चाहते हैं कि, आपके नाम के साथ भी doctor लग जाए तो आपको बहुत मेहनत करनी होगी तभी आप यह पद हासिल कर सकते हैं क्योंकि PHD degree course कम्पलीट करना आसान नहीं है। इसके लिए आप दिल से पढ़ाई करेंगे तभी सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इस आर्टिकल के माध्यम से हम उन अभ्यर्थियों को पीएचडी के बारे में विस्तार से बता रहे है ताकि आपको सही मार्गदर्शन और पूरी जानकारी मिल सके।

Table of Contents

पीएचडी क्या है? (What is PHD Course in Hindi)

पीएचडी कैसे करे (hoe to do phd course in hindi), पीएचडी के लिए योग्यता (qualification for phd), पीएचडी की फीस कितनी होती है (phd fees), पीएचडी की तैयारी कैसे करे (how to prepare for phd in hindi), पीएचडी के बाद क्या करे (what to do after phd in hindi) पीएचडी के बाद जॉब ऑप्शन, पीएचडी कोर्स करने के फायदे (benefits of phd in hindi), पीएचडी के बाद जॉब सैलरी (phd job salary).

पीएचडी की फुल फॉर्म ‘doctor of philosophy’ होती है। डॉक्टर ऑफ फिलोसोफी को ही PHD कहा जाता है। यह डॉक्टर के फील्ड में एक उच्च स्तर का डिग्री कोर्स होता है जो 3 साल में कम्पलीट होता है। आप अपनी पसंद के सब्जेक्ट में यह कोर्स कर सकते हैं, यह डिग्री कोर्स करने के बाद आप उस विषय के क्षेत्र में एक्सपर्ट बन जाते हैं।

मगर आप पीएचडी उसी सब्जेक्ट में कर सकते हैं जिस सब्जेक्ट में आपने मास्टर डिग्री की हो, मतलब आप जिस विषय में 12वीं पास करते हैं उसी विषय में ग्रेजुएशन और मास्टर डिग्री पूरी करे। यह योग्यता होने पर ही आप पीएचडी के लिए एडमिशन ले सकते हैं।

यह डिग्री कोर्स उन विद्यार्थियों के लिए ज्यादा फायदेमंद होता है जिन्हें किसी एक विषय में ज्यादा दिलचस्पी हो, और वे उस सब्जेक्ट में अच्छा ज्ञान रखते हो, उनके लिए पीएचडी बहुत अच्छा ऑप्शन साबित हो सकता है।

यदि आप यह डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो आप 12वीं पास होना जरूरी है, यही क्या, कोई भी डिग्री कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स का 12th पास होना बहुत जरूरी होता है। अगर आपने 12 कक्षा क्लियर कर ली है तभी आप पीएचडी कर सकते हैं। आगे की प्रक्रिया में आपको 12वीं के बाद ग्रेजुएशन करनी होगी, उसके बाद मास्टर डिग्री, यह दोनों डिग्री एक सब्जेक्ट में करे। यदि आपने 55% अंकों से ग्रेजुएशन और मास्टर डिग्री पूरी की है तभी आप पीएचडी कर सकते हैं अन्यथा नहीं।

अगर आपने 12वीं के बाद ग्रेजुएशन, मास्टर डिग्री पूरी कर ली है तो आपको Phd करने के लिए UGC/net exam पास करना होगा, यह परीक्षा क्लियर करने के बाद आप पीएचडी प्रवेश परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। यदि आप पीएचडी में एडमिशन पाना चाहते है तो आपको इसका entrance exam पास करना होगा, उसके बाद आप PHD की पढ़ाई शुरू कर सकते हैं।

पीएचडी करने के लिए क्या क्या योग्यता होनी चाहिए यह आप निचे बताये स्टेप की मदद से और आसानी से समझ सकते हैं।

  • ग्रेजुएशन डिग्री
  • मास्टर डिग्री 55% अंकों के साथ
  • 12th और ग्रेजुएशन डिग्री सब्जेक्ट एक होना चाहिए।

पीएचडी की फीस अलग-अलग कॉलेज में भिन्न होती है। यदि आप सरकारी कॉलेज से पीएचडी करते है तो फीस कम होती है। प्राइवेट कॉलेज में सरकारी कॉलेज के मुकाबले फीस ज्यादा होती है। साथ ही, इस डिग्री कोर्स की फीस अलग-अलग जाति के विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग होती है। इसलिए हम यह कह सकते हैं कि, पीएचडी की फीस निर्भारित नहीं होती है।

आप बिना मेहनत के पीएचडी नहीं कर सकते, इसके लिए आपको लगन से पढ़ाई करनी होगी। यहाँ हम पीएचडी की तैयारी करने के कुछ टिप्स बता रहे हैं जिनसे आपको मदद मिलेगी।

  • ऐसे विद्यार्थियों से बात करें जिन्होंने पीएचडी डिग्री कोर्स किया हो और वे सफल रहे।
  • पीएचडी परीक्षा के गत वर्ष के प्रश्न पत्रों की मदद लें, इससे आपको पीएचडी का सिलेबस और यह जानने को मिलेगा कि, PhD exam में किस टाइप के प्रश्न आते हैं।
  • अपने सब्जेक्ट पर ज्यादा ध्यान दें। उससे संबंधित current affairs पढ़ें।

इन सुझाओं को ध्यान में रखते हुए आपको पीएचडी की तैयारी करने में थोड़ी आसानी होगी।

यह कोर्स करने के बाद आपके पास करियर बनाने के बहुत से ऑप्शन होंगे जो आपके भविष्य को सुनहरा बना सकते हैं जैसे,

  • यह कोर्स करने के बाद यूनिवर्सिटी प्रोफेसर की जॉब कर सकते हैं। पीएचडी करने के बाद इस नौकरी की सबसे ज्यादा डिमांड होती है।
  • यदि आपने chemistry सब्जेक्ट में पीएचडी की है तो आप मेडिकल रिसर्च सेंटर और लैबोरेट्री एनालिसिस में नौकरी कर सकते हैं।
  • पीएचडी करने के बाद आप किसी सरकारी विभाग में सलाहकार (Advisory) के पद पर काम कर सकते हैं।
  • इसके अलावा, आप शिक्षा के क्षेत्र में करियर बना सकते हैं।

इसके अलावा, पीएचडी करने के बाद आपकी जॉब उस विषय पर निर्भर करती है जिस विषय में आपने पीएचडी की होगी, उस सब्जेक्ट से रिलेटेड फील्ड में जॉब के क्या-क्या विकल्प होंगे आप जान सकते हैं।

इसलिए, हम कह सकते हैं कि पीएचडी डिग्री कोर्स करने वाले लोगों के लिए बहुत से क्षेत्रों में व्यवसाय के अवसर होते हैं। यह डिग्री कोर्स स्टूडेंट्स के करियर को बेहतर बना सकता है।

  • आप जिस फील्ड में पीएचडी करते हैं उस क्षेत्र में एक्सपर्ट बन जाते हैं।
  • यह एक उच्च (highest) डिग्री कोर्स होता है। जिसे करने के बाद आपके पास जॉब के चांसेस ज्यादा होते हैं।
  • यह डिग्री प्राप्त करने के बाद आप किसी भी कॉलेज में प्रोफेसर बन सकते हैं।
  • पीएचडी करने के बाद आपके नाम के आगे डॉ लग जाता है जो आपको हर जगह सम्मान दिलाता है, जिससे आप गर्व महसूस करते हैं।
  • जो यह डिग्री हासिल कर लेता है उसे जानकारी के निर्माता (Information creator) भी कहा जाता है।

पीएचडी करने के बाद आपको जो जॉब मिलेगी उसकी सैलरी कितनी होगी यह आपके जॉब पद पर निर्भर करता है, क्योंकि यह कोर्स हर कोई अलग-अलग फील्ड में करता है तो जाहिर है उन्हें जॉब भी अलग और सैलरी भी भिन्न मिलती है। हालांकि, औसतन पीएचडी जॉब सैलरी 25 से 40 हजार तक या इससे भी ज्यादा हो सकती है जोकि बेहद अच्छी और सम्मानजनक होती है।

तो, दोस्तों, इस आर्टिकल में हमने आपको पीएचडी के बारे में बताया जैसे, PhD क्या है, PhD Course कैसे करे, इसके लिए योग्यता, पढ़ाई, फीस, करियर विकल्प आदि। साथ ही हमने आपको पीएचडी डिग्री कोर्स करने के फायदे और इसके बाद मिलने वाली जॉब की सैलरी के बारे भी में बताया।

हम उम्मीद करते हैं यह आर्टिकल अंत तक पढ़ने के बाद पीएचडी से संबंधित आपको काफी जानकारी मिली होगी। यदि अभी भी आपके मन में इससे related कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट के जरिए बता सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

  • एमसीए कोर्स (MCA Course) क्या है और कैसे करे?

यदि आपको PhD course कैसे करे? की जानकारी उपयोगी और अच्छी लगे तो सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल सके।

Avatar for Jamshed Khan

About Jamshed Khan

मैं इस ब्लॉग का एडिटर हु और मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Reader Interactions

Comments ( 6 ).

Avatar for Kajal

Mene 12th science se kiya or BA kiya to me PhD kr sakti hu

Avatar for Rishabh Goswami

Sir kya hm mca ke baad PhD kr skte hai?

Avatar for Raut Nilam Appasaheb

क्या 12 में आपका science हो बाद में आप commerce ले लेते हो, तो क्या हम phd नहीं कर सकते है?

Avatar for Jamshed Khan

कर सकते हो।

Avatar for Rupendra kumar

Kya graduation m bhi 55% hona jaruri h Sc walo k liye post graduation m kitni percent honi chahiye

Avatar for Dharmendra

इकबाल जी, आपने बेहद उपयोगी जानकारी दी है, आपका शुक्रिया।

Add a Comment Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name and email address for next time I comment.

We share helpful & useful information for beginners, You can visit on this website to read articles about " Howto … in Hindi?"

Other Links

  • Become Author
  • Free Blog Setup

Copyright © 2015-2024 · SupportMeIndia · All Right Reserved.

I need help with ...

AYUSH ARENA

GK Quiz Competition

[2024] phd kya hai kaise kare | पीएचडी फीस, योग्यता, सैलरी | पीएचडी के फायदे.

PhD kya hai kaise kare

दोस्तों इस आर्टिकल में आप पढ़ेंगे – PhD kya hai kaise kare .

इसमें हमने PhD से जुड़ी पूरी जानकारी दी है। जैसे PhD की eligibility , admission process, fees , duration , career after Phd और job &  salary after PhD.

हम आपको आर्टिकल के अंत में PhD karne ke fayde भी बताएंगे। इसलिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए।

अगर आप किसी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में पढ़ाने का सपना देखते हैं, नौकरी करते हुए प्रमोशन का स्कोप ढूंढ रहे हैं या अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाना चाहते हैं तो “PhD kya hai kaise kare” ये आर्टिकल आपके बहुत काम आएगा।

बहुत से स्टूडेंट्स पीएचडी करने का सपना देखते हैं। लेकिन उनको इस बात की सही जानकारी नहीं होती कि पीएचडी कैसे करें ? दोस्तों हम आज आपकी मुश्किल आसान कर देंगे।

Table of Contents

PhD kya hai – पीएचडी क्या होता है ?

PhD वह सबसे बड़ी योग्यता है जो आप पढ़ाई करके हासिल कर सकते हैं। आप 12th के बाद सबसे पहले ग्रेजुएशन करते हैं फिर पोस्ट ग्रेजुएशन करते हैं। कुछ लोग डबल पोस्ट ग्रेजुएशन भी करते हैं। लेकिन पीएचडी इन सबसे ऊपर है।

पीएचडी क्या है पूरी जानकारी -विडियो

इसमें आपको किसी एक सब्जेक्ट या टॉपिक पर बहुत डीटेल में स्टडी करनी होती है, जानकारियां इकट्ठी करनी पड़ती हैं। आखिर में आप एक ऐसी थीसिस (निबंध) तैयार करते हैं जो बिलकुल नई हो। इस तरह आप अपनी नॉलेज तो बढ़ाते ही हैं, आपके काम से दुनिया और समाज का भी भला होता है।

PhD का Full form

PhD का फुल फार्म होता है Doctor of Philosophy . यानि डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी।

फिलॉसफी शब्द जुड़ा होने पर आप यह मत सोचिएगा कि इसमें फिलॉसफी पढ़नी है।

आप हर उस सब्जेक्ट में PhD कर सकते हैं जो अकादमिक पाठ्यक्रम में शामिल है। फिलॉसफी भी इनमें से एक सब्जेक्ट हो सकता है।

पीएचडी कौन कर सकता है – पीएचडी के लिए योग्यता

पीएचडी कैसे करें –

  • सबसे पहले पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करें।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन में 55% नंबर होने चाहिए।
  • आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को 5% की छूट मिलती है।
  • हर यूनिवर्सिटी के लिए मिनिमम परसेंट में थोड़ा-बहुत अंतर हो सकता है।
  • पीएचडी की कोई एज लिमिट नहीं है।
  • आप अपने मास्टर के सब्जेक्ट में ही पीएचडी कर सकते हैं।

इनके अलावा भी कुछ क्वालिटीज होना जरूरी है।

आपकी पढ़ाई में रुचि होनी चाहिए। पीएचडी कोई साधारण एग्जाम नहीं है जिसमें आप किसी कुंजी (guide) से उत्तर रटकर पासिंग मार्क्स ले आएंगे। इसके लिए बहुत ज्यादा पढ़ना होता है।

अगर आपका मन किताबों में नहीं लगता तो यह फील्ड आपके लिए नहीं है।

इसके साथ-साथ धैर्य होना जरूरी है। पीएचडी में आपको कम से कम तीन साल लगते हैं। इसीलिए ये सोचकर ही कदम बढ़ाएं कि आप इतना समय दे सकते हैं।

पीएचडी करने के लिए एडमिशन कैसे लें ?

PhD में एडमिशन लेने के लिए आपको एन्ट्रेंस एग्जाम देना होता है।

इसमें सबसे पहले नाम आता है UGC NET का। साइंस के स्टूडेंट CSIR UGC NET exam देते हैं।

एक और एग्जाम होता है जिसे GATE कहते हैं। अगर आप इंजीनियरिंग से जुड़े सब्जेक्ट से पीएचडी करना चाहते हैं तो यह एग्जाम देना होता है।

  • इसे भी पढ़े –  UGC NET Exam क्या है ?
  • इसे भी पढ़े –  GATE Exam क्या है ?

कुछ यूनिवर्सिटीज और इंस्टीट्यूट अपनी तरफ से प्रवेश परीक्षा भी लेते हैं। जैसे JNU PhD entrance , BHU RET , TIFR (टाटा इंस्टीट्यूट के लिए), BITS (बिड़ला इंस्टीट्यूट), AIIMS , BARC (भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर)।

एंट्रेंस एग्जाम पास होने के बाद इंटरव्यू होता है। जो कैंडिडेट्स सलेक्ट होते हैं उनको पीएचडी में एडमिशन मिल जाता है।

कुछ यूनिवर्सिटीज NET या GATE एग्जाम पास करने पर डायरेक्ट एडमिशन भी देती हैं।

ये सभी एग्जाम बहुत मुश्किल होते हैं। लेकिन अगर आप पूरी मेहनत से तैयारी करें तो सब कुछ आसान हो जाता है।

सलेक्शन के बाद आपको एक गाइड या सुपरवाइजर के अंडर पीएचडी करनी होती है। वो आपको गाइडलाइन, कोर्स की पूरी जानकारी दे देते हैं। उसके मुताबिक आपको स्टडी करनी होती है।

इस दौरान आपको सेमिनारों में भाग लेना होता है। अपने रिसर्च पेपर पब्लिश करने होते हैं और कई तरह की अकादमिक गतिविधियों में भाग लेना होता है।

पीएचडी की फीस कितनी होती है – PhD Fees

PhD ki fees कितनी होती है,

इसके बारे में अक्सर लोग यह सोचते हैं कि यह इतनी मुश्किल और हायर लेवल की पढ़ाई है तो इसकी फीस भी बहुत होगी। दोस्तों ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

अगर सरकारी कॉलेज से पीएचडी की जाए तो साल का 20-25,000 रुपए का खर्च ही आता है और पीएचडी के दौरान आपको कम से कम 30,000 रुपए महीना का स्टाइपेंड भी मिलता है।

इस तरह आप आसानी से अपनी पढ़ाई और रोजमर्रा के खर्च निकाल सकते हैं।

प्राइवेट कॉलेज की फीस ज्यादा होती है। इसमें एक साल का खर्च लगभग 1.5-2 लाख तक आता है।

दोस्तों PhD kya hai kaise kare आर्टिकल में हम आगे आपको बताएंगे career after PhD और PhD करने के फायदे। इसलिए आप आर्टिकल पढ़ते रहिए।

पीएचडी कितने साल का होता है ?

PhD duration आम तौर पर 3 साल की होती है। लेकिन आपको यह सुविधा है कि आप इसे 6 साल तक पूरा कर लें।

इसकी वजह यह है कि आप अपने टॉपिक पर डीटेल में रिसर्च करते हैं। इसके लिए आपको लोगों के बीच जाना पड़ सकता है।

बहुत सा डेटा इकट्ठा करना पड़ता है। इसे रिजल्ट की तरह तैयार करना पड़ता है। फिर थीसिस लिखनी होती है। पीएचडी की थीसिस कम से कम 75-80,000 शब्दों की होती है। इन सबके लिए वक्त चाहिए।

पीएचडी के बाद करियर आप्शन

दोस्तों पीएचडी जितनी मेहनत का काम है, इसका फल भी इतना ही मीठा है।

भले ही आप PhD करके एक लंबा समय बिता देते हैं। लेकिन एक बार इसे पूरा करने पर आपका भविष्य उज्जवल होता है।

यानि PhD करने के बाद आपको बहुत फायदे है।

PhD kya hai kaise kare

PhD के बाद अगर आप चाहें तो टीचिंग में अच्छा करियर बना सकते हैं।

आप सोचेंगे कि ग्रेजुएशन के बाद भी तो बीएड करके टीचर बन सकते हैं। फिर इसी करियर के लिए PhD karne ke fayde kya hai? लेकिन दोनों मेंफर्क है।

  • इसे भी पढ़े –  सरकारी टीचर कैसे बने ?
  • इसे भी पढ़े –  बीएड क्या है पूरी जानकारी
  • इसे भी पढ़े –  M.Phil (एमफिल) कोर्स क्या है ?

PhD करके आप यूनिवर्सिटीज और कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर जैसे बड़े पद पर काम करते हैं, आगे जाकर आप प्रोफेसर बन सकते हैं।

आपकी सैलरी और भत्ते भी एक टीचर की तुलना में काफी ज्यादा होते हैं। सामाजिक रुतबा भी बहुत ज्यादा होता है।

आपने अगर किसी कॉलेज की एडमिशन बुक या मैगजीन ध्यान से देखी होगी तो उसमें वहां पढ़ाने वाले स्टाफ की क्वालीफिकेशन भी दी जाती है। इसमें उनके नाम के आगे अक्सर डॉक्टर लगा होता है।

इसके अलावा भी बहुत सारे सेक्टर हैं जहां पीएचडी करके अच्छा करियर बनाया जा सकता है। इनके बारे में अगले सेक्शन में पढ़िए।

पीएचडी के बाद जॉब और सैलरी –

  • PhD ke baad job and salary आपके सब्जेक्ट पर निर्भर करता है।
  • साइंस सब्जेक्ट के लोग रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेक्टर में जॉब कर सकते हैं।
  • लॉ सब्जेक्ट से पीएचडी करके आप लीगल फर्म जॉइन कर सकते हैं। आप सरकारी क्षेत्र में भी एक लीगल एडवाइजर बन सकते हैं।
  • साहित्य से जुड़े कैंडिडेट्स मीडिया, साहित्य अकादमी, भाषा अनुसंधान से जुड़ी संस्थाओं से जुड़ सकते हैं।
  • पीएचडी करके आप औसतन 5-10 लाख सालाना सैलरी से शुरुआत कर सकते हैं।
  • योग्य और अनुभवी लोगों के लिए तरक्की की कोई सीमा ही नहीं है।

PhD करने के फायदे –

अब जानिए PhD karne ke fayde

  • आप अपने सब्जेक्ट के एक्सपर्ट बन जाते हैं।
  • अगर आपने NET या GATE क्लीयर किया है तो पीएचडी करते हुए अच्छी स्टाइपेंड मिलती है।
  • आपके रिसर्च पेपर इंटरनेशनल लेवल पर छप सकते हैं।
  • इससे आपको दुनियाभर में पहचान मिलती है।
  • आपके पास देश-विदेश में काम करने के मौके आ जाते हैं।
  • आप नाम के पहले डॉक्टर लिखने लगते हैं।
  • जरूरी नहीं है कि आप मास्टर की पढ़ाई पूरी करके तुरंत पीएचडी करें। आप कुछ समय का गैप रख सकते हैं।
  • इससे यह फायदा होता है कि पहले आप एक जॉब कर सकते हैं। इससे कुछ एक्सपीरियंस हो जाता है। बाद में जॉब से थोड़ा ब्रेक लेकर आप पीएचडी कर सकते हैं।
  • इस तरह से आपके पास अपनी जॉब में तरक्की और सैलरी बढ़ाने का बहुत अच्छा रास्ता बन जाता है।
  • महिलाओं को पीएचडी के दौरान मातृत्व अवकाश यानि मेटरनिटी लीव लेने की छूट होती है।

पीएचडी क्या है कैसे करें ?

  • पीएचडी डॉक्टरेट डिग्री है। यह सबसे बड़ी क्वालिफिकेशन होती है।
  • इसमें 3-6 साल का समय लगता है।
  • इसके लिए आपको पोस्ट ग्रेजुएट होना चाहिए।
  • मिनिमम मार्क्स 55% होने चाहिए।
  • पीएचडी के लिए UGC NET, RET, GATE, BITS जैसी प्रवेश परीक्षा देनी होती है।
  • PhD में आपको अपने सब्जेक्ट की बहुत गहराई में पढ़ाई करनी होती है।
  • PhD करके आप यूनिवर्सिटीज और कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बन सकते हैं।
  • बहुत सी सरकारी और प्राइवेट संस्थाएं पीएचडी किए उम्मीदवारों को बढ़िया पैकेज देती हैं।

दोस्तों अगर आपने ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह पढ़ ली है तो आपको समझ आ गया होगा कि PhD kya hai kaise kare.

निष्कर्ष – पीएचडी क्या है कैसे करें ?

दोस्तों इस आर्टिकल में आपने पढ़ा PhD kya hai kaise kare. हमने आपको इस विषय से जुड़े हर पलू के बारे में बताया जैसे PhD की eligibility, admission process, fees, duration, career after PhD, job & salary after PhD और PhD karne ke fayde.

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइए। अगर कोई सवाल या सुझाव हो तो भी जरूर बताएं।

इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ताकि जो लोग नहीं जानते PhD kya hai kaise kare उन तक यह जानकारी पंहुचे।

आप हमारा होम पेज विजिट करके और भी बहुत से ज्ञानवर्धक आर्टिकल पढ़ सकते हैं। अगर आपको हमारा काम पसंद आया हो तो हमें सब्स्क्राइब करना न भूलें।

Article by – NIDHI NEER

होम पेज पर जाएँ – यहाँ क्लिक करें 

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Padhaipur

पीएचडी कितने साल का कोर्स है? | phd kitne saal ka hota hai

दोस्तों अपने लिए एक बेहतर करियर बनाना तो हर विद्यार्थी का ही सपना होता है।

या तो विद्यार्थी थोड़ा कम पढ़ कर जल्दी नौकरी ले लेते हैं या फिर पढ़ाई में थोड़ा ज्यादा वक्त दे कर और अच्छे पदों पर नौकरी लेने की सोचते हैं।

जो विद्यार्थी पढ़ने में थोड़ी ज्यादा रुचि रखते हैं और अपने पसंद के किसी विषय में specialist बनने के लिए रिसर्च आदि करने की इच्छा रखते हैं, वे पीएचडी यानी डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी का कोर्स चुनते हैं।

वर्तमान में बहुत से विद्यार्थी पीएचडी के लिए जाना चाहते हैं, पर उनमें से कुछ को इस कोर्स के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती है।

कईयों के मन में यह सवाल भी रहता है कि आखिर पीएचडी कितने साल का कोर्स है? PhD को आज के समय में देश में एक high level का कोर्स माना जाता है, जो विषय विशेष में रिसर्च आदि की पढ़ाई होती है।

पीएचडी कितने साल का कोर्स है?

तो आखिर इस कोर्स के लिए कितने साल का समय लगता है, एक obvious सवाल बन जाता है।

इस आर्टिकल में हम मुख्यत: इसी की बात करेंगे, साथ ही पीएचडी कोर्स से संबंधित दूसरी जरूरी बातों को भी जानेंगे।

आज हम जानेंगे

पीएचडी कितने साल का कोर्स है?

phd ke bad ki degree

पीएचडी 3 साल का कोर्स है लेकिन इसे पूरा करने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा 6 साल का समय दिया जाता है। आप 3 साल में पीएचडी पूरा कर सकते हैं, लेकिन पीएचडी के रिसर्च में ज्यादा समय लग सकता है इसीलिए आपके पास इसे 6 साल में पूरा करने का भी विकल्प होता है। 

थोड़ा सा यदि हम पीएचडी कोर्स के बारे में बात करें तो PhD का मतलब Doctor of Philosophy होता है।

पीएचडी एक डाक्टरल डिग्री होती है। किसी university आदि में प्रोफेसर बनने के लिए या आप चाहे तो research और thesis का क्षेत्र चुन सकते हैं और इसके लिए आपको पीएचडी करना होता है।

इस डिग्री को करने के बाद आप आपके नाम के आगे डॉक्टर शब्द लगा सकते हैं।

क्योंकि जिस विषय में आप पीएचडी करते है उस विषय का आपको बहुत ज्यादा ज्ञान हो जाता है, आप उस विषय के आप specialist कहलाते है।

इस कोर्स को करने के बाद आप कॉलेज में प्रोफेसर बन सकते हैं, या दूसरे भी कई क्षेत्रों में अच्छे पदों पर नौकरी ले सकते हैं। 

तो अवधि में, PhD का duration आम तौर पर 3 साल का होता है।

Trulli

यानी 3 साल के अंदर आप अपनी पीएचडी की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं, लेकिन आपको यह सुविधा भी है कि आप इसे 6 साल तक पूरा कर लें।

सुविधा से मतलब है कि PhD में आपको research और thesis करना होता है, और 3 साल में इसे पूरी करने के लिए आपको काफी ज्यादा मेहनत और समय देना पड़ेगा।

जो कि कई बार मुमकिन नहीं हो पाता इसीलिए 6 साल तक पूरा कर सकने के समय में आप अच्छे से समय निकालकर अपना रिसर्च पूरा कर सकेंगे।

PhD करने में 6 साल क्यूँ लगता है ?

पीएचडी कोर्स में कितना समय लगने का कारण यह है कि इस दौरान आप अपने टॉपिक पर डीटेल में रिसर्च करते हैं।

इसके लिए आपको लोगों के बीच जाना पड़ सकता है। रिसर्च का काम आसान नहीं होता इसके लिए बहुत सा डेटा इकट्ठा करना पड़ता है, इसे रिजल्ट की तरह तैयार करना पड़ता है और फिर थीसिस लिखनी होती है। 

Thesis की बात करें तो पीएचडी की थीसिस कम से कम 75-80,000 शब्दों की होती है,  अच्छी तरह से रिसर्च करके thesis आदि लिखने के  लिए वक्त चाहिए होता है, और यहीं पर यह समय लंबा खींच जाता है।

असल में जब आपका पीएचडी में दाखिला हो जाता है तब  आपको एक गाइड या सुपरवाइजर के अंडर पीएचडी करनी होती है।

वो आपको गाइडलाइन और कोर्स की पूरी जानकारी देते हैं। और आपको उसके मुताबिक ही स्टडी करनी होती है।

पीएचडी कोर्स के दौरान आपको सेमिनारों में भाग लेना होता है, आपको अपने रिसर्च पेपर पब्लिश करने होते हैं और कई तरह की अकादमिक गतिविधियों में भाग लेना होता है।

इन सब को मिलाकर पीएचडी कोर्स की कुल अवधि ज्यादा चली जाती है।

यहाँ पढ़ें – PhD wikipedia in hindi

इन्हें भी पढ़ें

  • पीएचडी की फीस कितनी है ? | PhD ki fees kitni hai

पीएचडी करने के बाद सैलरी कितनी मिलती है? | PhD ke baad salary kitni hoti hai

Phd कैसे करें.

हमने जाना कि पीएचडी विद्यार्थी के पसंद के किसी एक विषय में रिसर्च करने और थीसिस लिखने की पढ़ाई होती है।

पीएचडी के बाद आप उस विषय के स्पेशलिस्ट बन जाते हैं। जो विद्यार्थी पीएचडी में दाखिला लेना चाहते हैं उन्हें इसकी पूरी जानकारी स्टेप बाय स्टेप पता होनी चाहिए।

शुरू से बात करें तो पीएचडी करने तक की प्रक्रिया को ऐसे बताया जा सकता है –

Step 1 – पहले 10वीं फिर 12वीं पास करें

दसवीं और बारहवीं तो basic qualification हो जाती हैं।

दसवीं के बाद अपनी पसंद का स्ट्रीम चुने, अगर आप अभी नहीं जानते कि आप किस विषय में आगे पीएचडी करना चाहेंगे तो अपने सबसे पसंद के विषय को ध्यान में रखकर उसने अच्छे अंकों के साथ बारहवीं कक्षा पास करें।

Step 2 – Graduation पूरी करें

12वीं के बाद की डिग्री तो ग्रेजुएशन ही होती है। और ग्रेजुएशन में आपका कोई एक ही मुख्य विषय होता है।

आप जिस भी विषय में पीएचडी करने की सोचते हैं जाहिर है आप ग्रेजुएशन में उसी को अपना मुख्य सब्जेक्ट रखेंगे। उस विषय के साथ अच्छे अंको से ग्रेजुएशन पास करें।

Step 3 – Postgraduation या masters degree पूरी करें

ग्रेजुएशन पूरी कर लेने के बाद का स्टेप आता है पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करना।

जाहिर है आपने जिस विषय में ग्रेजुएशन किया होगा, मास्टर्स में भी आप उसी विषय को रखेंगे। उस विषय में अच्छे अंकों के साथ मास्टर्स की डिग्री प्राप्त करें।

Step 4 – UGC NET की परीक्षा क्लियर करें।

पीएचडी के कोर्स में दाखिले के लिए आपको एक प्रवेश परीक्षा देनी पड़ती हैं। पीएचडी के लिए आपको UGC NET Test Pass करना होता है।

इसलिए स्नातकोत्तर पुरा होने के बाद UGC NET टेस्ट के लिए अप्लाई करे और इसे क्लियर करें। यह परीक्षा पास करके आप PhD में एडमिशन के लिए जरूरी Qualification पूरी तरह से पा लेते हैं। 

Step 5 – PhD में admission लें

ज़्यादातर कॉलेज (सरकारी) यूजीसी की परीक्षा क्लियर होने पर दाख़िला दे देते हैं, जबकि कुछ कॉलेज अपनी अलग से Entrance परीक्षा भी लेते हैं।

उन कॉलेजों में पी एच डी  में दाख़िला लेने के लिए आपको उस कॉलेज की PhD Entrance Test पास करनी होती हैं।

अब कई कॉलेज पीएचडी में दाख़िला देने से पहले एक Personal Interview भी लेती हैं। वह क्लियर करने के बाद आपको पीएचडी में दाखिला मिल जाता है।

Step 6- PhD की पढ़ाई पूरी करें।

अब आपको अपने subject विशेष पर बहुत Research यानि अनुसंधान करना होता है। उस पर थीसिस यानि निबंध लिखने होते हैं। जैसा कि हमने जाना कि सामान्यत: पीएचडी की पढ़ाई 3 साल तक चलती है, पर यदि आप चाहें तो इसे 6 साल तक खींच सकते हैं।

रिसर्च करके थीसिस आदि सबमिट के बाद आपके नाम के पीछे डॉक्टर लग जाता है और आपको पीएचडी की उपाधि प्राप्त हो जाती है।

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर यह जाना है कि पीएचडी कितने साल का कोर्स होता है?

पीएचडी के कोर्स के दौरान क्या करना होता है और उसमें कितना समय लगता है?

Course अवधि की सही जानकारी होना हर विद्यार्थी के लिए जरूरी है क्योंकि इससे उन्हें अपने लिए बेहतर निर्णय ले सकते हैं कि यह कोर्स उनके लिए सही है या नहीं।

phd ke bad ki degree

Akash, Padhaipur के Writter है। इन्होंने 2020 में अपनी M.A (हिंदी) की पढ़ाई पूरी की।इनको किताबें पढ़ने का बहुत शौक़ है, इसके अलावा इन्हें लिखना भी बहुत पसंद है।

इसे भी पढ़े?

पीएचडी करने के बाद सैलरी कितनी मिलती है? | PhD ke baad salary kitni hoti hai

पीएचडी की फीस कितनी है 2023 ? | phd ki fees kitni hai

1 thought on “पीएचडी कितने साल का कोर्स है | phd kitne saal ka hota hai”.

' src=

Kya jo compartmental exam diye h waise log PhD kr skte hai

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

  • हरियाणा पुलिस सिलेबस 2022
  • 10वीं पास के लिए पुलिस की नौकरी 2022
  • बिहार पुलिस का दौड़ ?
  • महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी
  • Civil Service से जुड़ी पूरी जानकारी
  • देश के सबसे अच्छे private नौकरियों  [Must Read]

phd ke bad ki degree

30,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today

Here’s your new year gift, one app for all your, study abroad needs, start your journey, track your progress, grow with the community and so much more.

phd ke bad ki degree

Verification Code

An OTP has been sent to your registered mobile no. Please verify

phd ke bad ki degree

Thanks for your comment !

Our team will review it before it's shown to our readers.

phd ke bad ki degree

  • Masters Programs /

जानिए एमएससी के बाद कौनसा कोर्स करना है बेहतर

' src=

  • Updated on  
  • अगस्त 24, 2022

मास्टर ऑफ़ साइंस की डिग्री पहली बार 1858 में यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन में शुरू की गई थी। एमएससी आमतौर पर ऐसे प्रोग्राम के लिए होती है जो साइंटिफिक और मैथमेटिकल सब्जेक्ट्स पर अधिक फोकस्ड होते हैं। जब बात आती है MSc ke baad kya kare, तो छात्रों के पास कई विकल्प हैं, जिनके बारे में हमने इस ब्लॉग में विस्तार से बताया है। 

This Blog Includes:

एमएससी के बाद क्या करें- कोर्स और करियर के अवसर, शीर्ष विदेश विश्वविद्यालय, शीर्ष भारतीय विश्वविद्यालय, मर्चेंट नेवी, सिविल सर्विस एग्जाम, एमएससी के बाद सर्टिफिकेट कोर्स, आवेदन प्रक्रिया , आवश्यक दस्तावेज़  , एमएससी के बाद क्या करें–प्रतियोगी परीक्षा, एमएससी के बाद नौकरी के विकल्प और सैलरी.

आपको बता दें की आप एमएससी के बाद कई प्रकार के प्रोफेशनल कोर्सेज कर सकते है जैसे- 

  • Digital marketing 
  • Post Graduate Diploma in Management(PGDM)
  • Merchant Navy
  • Civil services exam
  • digital marketing

एमबीए  

एमएससी के बाद एमबीए करना बेस्ट है। MBA , Master of Business Administration 2 वर्ष का मास्टर कोर्स है, जिसे 6-6 महीने के 4 सेमेस्टर में बांटा गया है । इस कोर्स में बिज़नेस स्किल, बिज़नेस मैनेजमेंट, मार्केटिंग स्किल आदि के बारे में  पढ़ाया जाता है। एमबीए के पहले साल में छात्रों को मैनेजमेंट के विषय पढ़ाये जाते हैं और दूसरे साल में आपके द्वारा चुने गए स्पेशलाइज्ड विषय पढ़ाये जाते हैं। एमबीए में आर्ट्स, साइंस, कॉमर्स किसी भी स्ट्रीम के छात्र एडमिशन ले सकते हैं। 

  • MBA in Finance 
  • MBA in Marketing 
  • MBA in Human Resource Management   
  • MBA in International Business 
  • MBA in Information Management 
  • MBA in Operation Management

आवश्यक योग्यता नीचे बताई गई है:

  • कैंडिडेट ने BBA या संबंधित कोर्स में ग्रेजुएशन कम्पलीट किया हो।
  • इंडिया की कुछ यूनिवर्सिटीज एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करती हैं, जिसे क्लियर करके ही कैंडिडेट एमबीए के लिए योग्य होते हैं।
  • विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज GMAT/ GRE स्कोर की मांग करती हैं।
  • विदेश में एमबीए के लिए IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • विदेश की कुछ यूनिवर्सिटीज 2 से 3 साल का कार्य अनुभव भी मांगती हैं।

दुनिया के टॉप विश्वविद्यालय नीचे दिए गए हैं:

  • हार्वर्ड विश्वविद्यालय
  • मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • पर्ड्यू विश्वविद्यालय 
  • व्हार्टन स्कूल,  पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय
  • स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय 
  • आईई बिजनेस स्कूल,  आईई विश्वविद्यालय
  • लंदन बिजनेस स्कूल
  • एचईसी पेरिस 
  • मिशिगन यूनिवर्सिटी 
  • नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी 
  • जॉर्जिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी 
  • इंडियाना विश्वविद्यालय
  • कॉर्नेल विश्वविद्यालय
  • एरिजोना स्टेट विश्वविद्यालय

भारत के टॉप विश्वविद्यालय नीचे दिए गए हैं:

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ फॉरेन ट्रेड, नई दिल्ली
  • आईआईएम लखनऊ
  • आईआईएम अहमदाबाद
  • एमडीआई गुड़गांव
  • एमिटी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल, नोएडा
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
  • केजे सोमैया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एंड रिसर्च, मुंबई
  • सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल बिजनेस, पुणे
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी

PhD की फुल फॉर्म है Doctor of Philosophy। पीएचडी एक उच्च शैक्षणिक डिग्री हैं। पीएचडी 3 से 5 साल का कोर्स है, जिसके बाद आपके नाम के आगे Dr. लग जाता है क्योंकि यह डॉक्टरल डिग्री है। अगर आपको किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर या लेक्चरर बनना है, तो ऐसे में आपके पास पीएचडी की डिग्री होनी चाहिए। पीएचडी करते समय आपको अपने विषय में रिसर्च करनी होती है। 

  • भारत में पीएचडी करने के लिए आपके पास न्यूनतम 55% के साथ 3 वर्ष की ग्रेजुएशन की डिग्री और 2 वर्ष की मास्टर डिग्री होनी आवश्यक है। 
  • भारत में पीएचडी करने के लिए UGC-NET /GATE एंट्रेंस एग्जाम क्लियर होना चाहिए। कुछ एंट्रेंस एग्जाम स्टेट द्वारा और यूनिवर्सिटी द्वारा भी कराये जाते हैं। 
  • यदि आप अब्रॉड में पीएचडी करना चाहते हैं तो आपके पास 3 वर्ष की ग्रेजुएशन की डिग्री और 2 वर्ष की मास्टर डिग्री होनी आवश्यक है। 
  • अंग्रेजी भाषा ज्ञान का प्रमाण ।
  • अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को भी आवेदन के एक भाग के रूप में एक रिसर्च प्रपोजल, रिसर्च इंट्रेस्ट्स और मेथोडोलॉजी की आवश्यकता होती है।  
  • मास्टर डिग्री में न्यूनतम 65 % स्कोर होने चाहिए।  
  • जिस विषय में पीएचडी करना चाहते है उस विषय का ज्ञान होना चाहिए। 
  • एक अच्छा IELTS/ TOEF L स्कोर अंग्रेजी भाषा  के ज्ञान के प्रमाण के रुप में होना आवश्यक है। 
  • ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय 
  • हार्वर्ड विश्वविद्यालय 
  • कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
  • येल विश्वविद्यालय
  • ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय
  • टोरंटो विश्वविद्यालय
  • अल्बर्टा विश्वविद्यालय
  • लुडविग-मैक्सिमिलियन- म्यूनिख विश्वविद्यालय
  • म्यूनिख टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी
  • कैलिफोर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • पर्ड्यू विश्वविद्यालय
  • स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय
  • ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय विश्वविद्यालय
  • आरएमआईटी विश्वविद्यालय
  • मेलबर्न विश्वविद्यालय
  • सिडनी विश्वविद्यालय
  • क्वींसलैंड विश्वविद्यालय
  • फैकल्टी ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज, दिल्ली विश्वविद्यालय
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • IIM (आईआईएम)
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, कलकत्ता
  • दिल्ली विश्वविद्यालय
  • जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय 
  • एम्स दिल्ली – अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नई
  • एलपीयू जालंधर – लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • इग्नू दिल्ली – इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट (PGDM)

Post Graduate Diploma in Management(PGDM) एक मैनेजमेंट कोर्स है। PGDM कोर्स काफ़ी हद तक एमबीए के समान ही है, जिसका उद्देश्य केस स्टडीज और सेमिनार के माध्यम से छात्रों को इंडस्ट्री के लिए तैयार करना है। PGDM कोर्स में नीचे दिए गए विषय पढ़ाये जाते हैं :

  • Business Development
  • International Business
  • Management & Leadership
  • Entrepreneurship
  • Project Management
  • HR Development
  • Financial Accounting
  • Managerial Economics
  • Organisational Behaviour
  • Advertising & Public Relations

आवश्यक योग्यता इस प्रकार है:

  • कैंडिडेट ने किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएशन कम्पलीट किया हो।
  • भारत में Common Aptitude Test (CAT) / Management Aptitude Test (MAT) / Common Management Aptitude Test (CMAT) /Symbiosis National Aptitude Test (SNAP) जैसे एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करके ही कैंडिडेट PGDM के लिए योग्य होते हैं।
  • विदेश में PGDM के लिए IELTS या TOEFL स्कोर की भी आवश्यकता होती है।
  • हांगकांग साइंस एंड टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी
  • लंदन स्कूल ऑफ बिजनेस एंड फाइनेंस
  • ट्रिनिटी कॉलेज डबलिन
  • मोनाश विश्वविद्यालय
  • भारतीय प्रबंधन संस्थान
  • एसपी जैन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड रिसर्च
  • नरसी मोंजी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रबंधन संस्थान
  • ग्रेट लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट
  • पीएसजी कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी
  • दून बिजनेस स्कूल
  • एनडीआईएम दिल्ली
  • आईएफएमआई बिजनेस स्कूल
  • आईपीई हैदराबाद

एमएससी के बाद मर्चेंट नेवी बेहतर करियर विकल्प है। डिफेंस नेवी देश की मेरीटाइम मिलिट्री विंग है। नवल शिप वे जहाज होते हैं जिनका उपयोग अंतर्राष्ट्रीय संकट के समय देश की जल सीमा की सुरक्षा के लिए किया जाता है। नीचे दिए गए कोर्स के द्वारा आप डिफेन्स नेवी / आर्म्ड फाॅर्स जॉइन कर सकते हैं :

  • Technical graduate course (TGC)
  • Short service commission (SSC)

सिविल सर्विस एग्जाम भारत की एक प्रतियोगी परीक्षा है, जिसके परिणाम के आधार पर भारत सरकार द्वारा सेंटर और राज्य प्रशासन के लिए सिविल सर्विसेज ऑफिसर जैसे- IAS, IPS , IFS चुने जाते हैं। UPSC द्वारा प्रत्येक वर्ष सिविल सर्विसेज एग्जाम का आयोजन किया जाता है। सिविल सर्विसेज एग्जाम में तीन चरण होते हैं-

  • Preliminary Examination – Preliminary एग्जाम प्रत्येक वर्ष जून महीने में होता है और रिजल्ट अगस्त में आता है । 
  • Mains Examination – mains एग्जाम प्रत्येक वर्ष अक्टूबर महीने में होता है और रिजल्ट जनवरी में आता है।
  • I nterview – इंटरव्यू प्रत्येक वर्ष मार्च महीने में होता है और रिजल्ट मई में आता है।

डिजिटल मार्केटिंग  

इंटरनेट या ऑनलाइन माध्यम जैसे कंप्यूटर, मोबाइल, सोशल साइट्स से की जाने वाली मार्केटिंग को डिजिटल मार्केटिंग कहा जाता है। डिजिटल मार्केटिंग का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे किसी भी प्रोडक्ट को जल्दी और ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाना आसान हो गया है क्योंकि आज इंटरनेट की पहुँच देश के हर कोने में है। Instagram, YouTube, Facebook, WhatsApp, SEO आदि सभी डिजिटल मार्केटिंग के साधन है और  ई-कॉमर्स मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन, ईमेल डायरेक्ट मार्केटिंग, डिस्प्ले विज्ञापन, ई-बुक्स और ऑप्टिकल डिस्क यह सब डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार है।

  • यदि आप डिप्लोमा या बैचलर कोर्स करना चाहते है तो आपको 10+2 न्यूनतम 50% के साथ पास करना होगा।
  • यदि आप डिजिटल मार्केटिंग में मास्टर कोर्स करना चाहते हैं तो बैचलर्स डिग्री का होना आवश्यक है। 
  • इसके अलावा इंग्लिश प्रोफिसिएंसी टेस्ट जैसे-IELTS/TOEFL आदि कोर्स पहले से करके तैयार रखने हैं।
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस और लेटर ऑफ़ रेकमेंडेशन ( LOR ) आपके पास होने चाहिए।
  • किंग्स कॉलेज लंदन
  • हेरियट वाट विश्वविद्यालय
  • डंडी विश्वविद्यालय
  • साउथेम्प्टन विश्वविद्यालय
  • सरे विश्वविद्यालय
  • केंटो विश्वविद्यालय
  • अल्स्टर यूनिवर्सिटी
  • कुम्ब्रिया विश्वविद्यालय
  • इंपीरियल कॉलेज बिजनेस स्कूल, यूनाइटेड किंगडम 
  • एचईसी पेरिस, फ्रांस
  • ESADE विश्वविद्यालय, स्पेन
  • ईएससीपी विश्वविद्यालय, फ्रांस
  • मैनचेस्टर विश्वविद्यालय, यूके
  • क्रैनफील्ड विश्वविद्यालय, यूके 
  • ट्रिनिटी बिजनेस स्कूल, आयरलैंड
  • इरास्मस विश्वविद्यालय (RSM), नीदरलैंड

एमफिल 

एमफिल (Master of Philosophy) एक रिसर्च प्रोग्राम है, जिसको आप पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री के बाद कर सकते है। M.Phil. कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को एंट्रेंस एग्जाम जैसे कि NAT/SAT/GAT/UGC-JRF/GATE/VITMEE/CUCET क्लियर करने होंगे, जिसमें पास होने के बाद इंटरव्यू क्लियर करना होता है। इंटरव्यू क्लियर होने के बाद छात्र M.Phil. के कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। M.Phil. 2 साल का कोर्स है जिसे 4 सेमेस्टर में बांटा गया है-

  • सेमेस्टर 1 – 4 कोर्स + सेमिनार
  • सेमेस्टर 2 – 3 कोर्स + शोध प्रबंध का पहला चरण
  • सेमेस्टर 3 – 1 कोर्स + आर एंड डी प्रोजेक्ट
  • सेमेस्टर 4 – शोध प्रबंध का दूसरा और तीसरा चरण
  • भारत में M.Phil करने के लिए आपके पास न्यूनतम 55% के साथ 3 वर्ष की ग्रेजुएशन की डिग्री और 2 वर्ष की मास्टर डिग्री होनी आवश्यक है। 
  • भारत में M.phil करने के लिए NAT/SAT/GAT/UGC-JRF/GATE/VITMEE/CUCET जैसे एंट्रेंस एग्जाम क्लियर होने चाहिए। कुछ एंट्रेंस एग्जाम स्टेट द्वारा और यूनिवर्सिटी द्वारा भी कराये जाते हैं। 
  • यदि आप विदेश में M.phil करना चाहते हैं तो आपके पास 3 वर्ष की ग्रेजुएशन की डिग्री और 2 वर्ष की मास्टर डिग्री होनी जरूरी है। 
  • एक अच्छा IELTS/ TOEF L स्कोर इंग्लिश प्रोफिसिएंसी के रुप में होना आवश्यक है। 
  • मैसाचुसेट्स टेक्नोलॉजी
  • कैलिफोर्निया टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट
  • ऑस्ट्रेलियाई नेशनल विश्वविद्यालय

बी.एड. का फुल फॉर्म है Bachelor of Education। यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है, इसलिए इसमें आप ग्रेजुएशन के बाद ही एडमिशन ले सकते हैं। इसमें छात्रों को टीचर बनने के लिए तैयार किया  जाता है। यदि आपका सपना टीचर बन कर देश का भविष्य तैयार करना है, तो आप बी.एड. कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

MSc ke baad kya kare यह प्रश्न आपको परेशान कर रहा है, तो एमएससी के बाद कई प्रकार के सर्टिफिकेट कोर्स भी कर सकते हैं जो इस प्रकार है- 

  • Short-term certificate courses in Graphic Designing, Web Designing
  • PG Diploma in Digital Marketing
  • Tally Course
  • Photography
  • Web designing
  • Foreign Language Courses

MSc ke baad kya kare में विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है–

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेज़ों जैसे SOP , निबंध, सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टैस्ट स्कोर जैसे IELTS , TOEFL , SAT , ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS , TOEFL , PTE , GMAT , GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति/छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लैटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूज़र नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

MSc ke baad kya kare के लिए कुछ ज़रूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

  • आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्ट  
  • स्कैन किए हुए पासपोर्ट की कॉपी
  • IELTS या TOEFL , आवश्यक टेस्ट स्कोर 
  • प्रोफेशनल/एकेडमिक LORs
  • निबंध (यदि आवश्यक हो)
  • पोर्टफोलियो (यदि आवश्यक हो)
  • अपडेट किया गया सीवी/रिज्यूमे
  • एक पासपोर्ट और छात्र वीज़ा  

सरकारी नौकरी चाहने वाले उम्मीदवार एमएससी के बाद प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

भारत की कुछ प्रमुख प्रतियोगी परीक्षाएं इस प्रकार है:

  • UPSC civil services
  • Bank PO and Clerk

M.Sc के बाद आप कई क्षेत्रों में नौकरी कर सकते हैं। हमने नीचे कुछ लोकप्रिय जॉब प्रोफाइल और उनकी सैलरी दी है। (यह डाटा pay scale.com से लिया गया है)

एमएससी के बाद हाई सैलरी कोर्स इस प्रकार है- MBA, PhD , Digital marketing ।

एमएससी के बाद लोकप्रिय कोर्स 1. MBA, 2. PhD 3. Digital marketing  4. Post Graduate Diploma in Management(PGDM) 5. Merchant Navy 6. Civil services exam 7. M.Phil 8. B.Ed.

यदि आप टीचर बनना चाहते हैं तो आपके लिए बी.एड. करना एक दम सही है।  

हमें उम्मीद है कि MSc ke baad kya kare का जवाब आपको मिल चुका होगा। यदि आप एमएससी के आगे की पढ़ाई विदेश में करना चाहते हैं तो एक उचित मार्गदर्शन के लिए आज ही 1800 572 000 पर कॉल करें और हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

' src=

हिमानी महर्षि

A writer with more than 3 years of experience in various fields of communication, I takes great pleasure in helping students and their parents by addressing their queries regarding their journey to study abroad via blogs, News and Quora.

प्रातिक्रिया दे जवाब रद्द करें

अगली बार जब मैं टिप्पणी करूँ, तो इस ब्राउज़र में मेरा नाम, ईमेल और वेबसाइट सहेजें।

Contact no. *

M.H.Sc ke bad Government job

हैलो अराधना, एमएससी के बाद आपके पास कई गवर्नमेंट जाॅब्स के अप्लाई कर सकती हैं।

Bsc 40%passed and Msc 65% passed kya bed entrance exam de sakte he

browse success stories

Leaving already?

8 Universities with higher ROI than IITs and IIMs

Grab this one-time opportunity to download this ebook

Connect With Us

30,000+ students realised their study abroad dream with us. take the first step today..

phd ke bad ki degree

Resend OTP in

phd ke bad ki degree

Need help with?

Study abroad.

UK, Canada, US & More

IELTS, GRE, GMAT & More

Scholarship, Loans & Forex

Country Preference

New Zealand

Which English test are you planning to take?

Which academic test are you planning to take.

Not Sure yet

When are you planning to take the exam?

Already booked my exam slot

Within 2 Months

Want to learn about the test

Which Degree do you wish to pursue?

When do you want to start studying abroad.

September 2024

January 2025

What is your budget to study abroad?

phd ke bad ki degree

How would you describe this article ?

Please rate this article

We would like to hear more.

IMAGES

  1. MA Ke Baad PhD Kaise Kare जाने विस्तार से

    phd ke bad ki degree

  2. Ph D कैसे करते हैं, पीएचडी की तैयारी कैसे करें, Job, Salary,2024

    phd ke bad ki degree

  3. AKTU

    phd ke bad ki degree

  4. How to Get Original Degree, Marksheet, Migration & Provisional Certificate From IGNOU

    phd ke bad ki degree

  5. Doctor ki degree ka matab / Doctor ki Degrees ka Fullform l MBBS l MS l

    phd ke bad ki degree

  6. IGNOU DEGREE CERTIFICATE

    phd ke bad ki degree

VIDEO

  1. Rihai Ke Bad Fawad Chaudhry Ki Jugtain

  2. wazu ke bad ka wazifa #islamicstatus #muhammadﷺ #waju ke bad ki dua

  3. PhD Thesis किस-किस के पास जाती हैं Final Viva से पहलें जान लो🎓

  4. LATEST PhD ADMISSION NOTIFICATION FROM A STATE UNIVERSITY/ PhD admission 2021

  5. PhD kya hai। PhD kya hota hai। PhD kese kare। course work, entrance exam की सम्पूर्ण जानकारी

  6. engineering ki degree ke bad history nahin #engineering

COMMENTS

  1. Phd क्या है कैसे करे

    PhD Full Form: Doctor of Philosophy: PhD Duration: 4-6 वर्ष: PhD Degree Requirements: coursework presentation submission of progress reports defence of thesis: PhD Admission: Direct Admission Or entrance exams: PhD Courses: PhD in Physics PhD computer science Phd in Psychology PhD in History PhD in Business Administration PhD in ...

  2. PhD kaise kare: जानिए स्टेप बाय स्टेप गाइड

    PhD kaise kare के लिए step-by-step guide नीचे दिया गया है: Step 1: कैंडिडेट को 12 साल की बुनियादी शिक्षा ( कक्षा 1st -12th ) पूरी होना अनिवार्य हैं।. Step 2: PhD करने के लिए ...

  3. पीएचडी क्या हैं? PHD कैसे करे, फीस, योग्यता और अन्य जानकारी

    Sir mene 2015 me b.com + com. Se graduation kiya or pgdca bhi ho gaya fir meri personal reasons ki bajeh se padhai chhot gai ab me fir se karna chahti ho or mujhe phd karna hai to me mastar degree karo ya pgdca se ke baad bhi phd kar sakti ho agar nhi to me ab me MA kar lo ya mujhe m.com karna padega phd ke liye

  4. PhD क्या होता है? PhD Kitne Saal ka Hota Hai

    PhD क्या होता है? PhD का मतलब होता है "Doctor of Philosophy" या फिर "Philosophiae Doctor" (लैटिन में).यह एक higher education degree होती है जो किसी विशेष विषय में leading education और research की प्रक्रिया का हिस्सा ...

  5. MSc ke baad PhD Kaise Kare : यहां मिलेगी पूरी जानकारी

    MSc के बाद में लिए जाने वाले कुछ टॉप पीएचडी कोर्सेज नीचे दिए गए हैं: Doctor of Philosophy (PhD) in Computer Science. Doctor of Philosophy (PhD) in Physics. Doctor of Philosophy (PhD) in Biotechnology. Doctor of Philosophy (PhD) in Economics ...

  6. PhD: Full Form, Admission 2024, Courses, Degree, Entrance Exams

    The full form of PhD is Doctor of Philosophy derived from the Latin term Philosophiae Doctor. PhD is the highest degree or doctorate awarded for research in a particular subject. The duration of PhD course is 3 years but can vary from college to college. PhD Eligibility requires students to have pursued a master's degree or an MPhil with a ...

  7. Doctor of Philosophy

    A Doctor of Philosophy (PhD, Ph.D., or DPhil; Latin: philosophiae doctor or doctor philosophiae) is the most common degree at the highest academic level, awarded following a course of study and research. The degree is most often abbreviated PhD (or, at times, as Ph.D. in North America).It is derived from the Latin Philosophiae Doctor, pronounced as three separate letters (/ p iː eɪ tʃ ˈ d ...

  8. PHD क्या है कैसे करे: Full Form, Fees, Subject in Hindi

    PHD Full Form in Hindi. PHD की Full Form होती हैं Doctor of Philosophy. पीएचडी की फुल फॉर्म हिंदी में है डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी। ये एक Doctoral Degree होती हैं। जो भी पीएचडी का कोर्स ...

  9. Minimum standards and procedures for award of Ph.D. degree regulations

    Education plays a significant and remedial role in balancing the socio-economic fabric of the Country. Since citizens of India are its most valuable resource, our billion-strong nation needs the nurture and care in the form of basic education to achieve a better quality of life. This warrants an all-round development of our citizens, which can be achieved by building strong foundations in ...

  10. PhD Kya Hai? पीएचडी कैसे करें? Ph.D Full Form Meaning in Hindi

    PhD ki Fees Kitni Hai?. अगर आप किसी सरकारी कॉलेज से इस कोर्स को करते है तो लगभग 50 - 70 हजार रुपये के बीच में लग सकती हैं लेकिन यदि हम प्राइवेट कॉलेज की बात करे तो सभी कॉलेज ...

  11. PhD After MBA in India: Eligibility, Benefits, Salary, PhD Abroad 2022

    To pursue Ph.D. after an MBA in Commerce and Management, a candidate must hold a masters' degree, MBA, or MPhil with a minimum aggregate of 55%. Candidates can seek employment in leading sectors such as Finance, Management, Commerce, etc. with an average salary of INR 3,00,000 - INR 40,00,000. Program Name.

  12. पीएचडी करने के बाद सैलरी कितनी मिलती है?

    Glassdoor.com वेबसाइट के अनुसार पीएचडी करने के बाद शुरुआती सैलरी ₹33000 से लेकर ₹40000 तक हर महीने होती है।. काम में अनुभव बढ़ जाने के बाद आपकी सैलरी ...

  13. एम कॉम के बाद पीएचडी कैसे करें?

    उम्मीद है, M Com ke baad PhD kaise kare के इस ब्लॉग से आपको महत्वपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि आप भी विदेश में एम कॉम के बाद पीएचडी करना चाहते हैं तो ...

  14. पीएचडी कितने साल की होती है

    पीएचडी (PhD) का अर्थ डॉक्टर ऑफ़ फिलॉसफी (Doctor of Philosophy) है, जिसे संक्षिप्त में पीएचडी कहा जाता है, इस कोर्स को करने के बाद आप के नाम के आगे डॉ (Dr.) शब्द सम्मिलित हो ...

  15. PhD ke Liye Qualification, PhD Kaise Kare? PhD ki Fees Kitni Hai?

    PhD ki Fees Kitni Hai? PhD ke Liye Qualification, PhD Kaise Kare? पीएचडी की फीस कितनी है? पीएचडी (PhD), ' डाक्टरल डिग्री ' कोर्स है, जो 3 वर्ष का होता है. इस कोर्स की डिग्री प्राप्त ...

  16. Doctoral education at Karolinska Institutet

    Doctoral (PhD) student position in the mechanobiology of heart regeneration. Department: Department of Cell and Molecular Biology. Application Deadline: 2024-05-30. PhD position - Risk factors and characteristics of late onset psychosis. Department: Department of Medical Epidemiology and Biostatistics.

  17. पीएचडी करने के बाद सैलरी : जानें PhD Ke Baad किस स्तर पर कितनी सैलरी

    पीएचडी करने के तुरंत बाद PhD फ्रेशर्स की कुछ जॉब प्रोफाइल पर मिलने वाली सैलरी को टेबल के माध्यम से दिखाया गया है।. जॉब प्रोफाइल ...

  18. पीएचडी (PhD) क्या है और कैसे करे ? (PhD full form)

    पीएचडी की फुल फॉर्म 'doctor of philosophy' होती है। डॉक्टर ऑफ फिलोसोफी को ही PHD कहा जाता है। यह डॉक्टर के फील्ड में एक उच्च स्तर का डिग्री कोर्स ...

  19. [2024] PhD kya hai kaise kare

    दोस्तों इस आर्टिकल में आपने पढ़ा PhD kya hai kaise kare. हमने आपको इस विषय से जुड़े हर पलू के बारे में बताया जैसे PhD की eligibility, admission process, fees, duration, career after PhD, job & salary ...

  20. पीएचडी कितने साल का कोर्स है?

    क्योंकि जिस विषय में आप पीएचडी करते है उस विषय का आपको बहुत ज्यादा ज्ञान हो जाता है, आप उस विषय के आप specialist कहलाते है।. इस कोर्स को करने ...

  21. UPSC के लिए 12वीं के बाद बेस्ट ग्रेजुएशन कोर्स और पाठ्यक्रम

    UPSC के लिए 12वीं के बाद बेस्ट ग्रेजुएशन कोर्स | Best graduation course after 12th for UPSC in hindi,पाठ्यक्रम,पात्रता के बारे में विस्तार से यहाँ जानें!

  22. MSc के बाद क्या करें जानिए कौनसा कोर्स करना है बेहतर

    पीएचडी . PhD की फुल फॉर्म है Doctor of Philosophy। पीएचडी एक उच्च शैक्षणिक डिग्री हैं। पीएचडी 3 से 5 साल का कोर्स है, जिसके बाद आपके नाम के आगे Dr. लग जाता है क्योंकि यह ...

  23. hindipark.com

    hindipark.com